विदेश में पढ़ाई करने के लिए जानें कौनसा इंग्लिश प्रोफिशिएंसी टेस्ट सही होगा

फॉरेन इंस्टीट‌्यूट में एडमिशन के लिए टॉफेल दें या आईईएलटीएस

एजुकेशन डेस्क। अमेरिका, ब्रिटेन, ऑस्ट्रेलिया, कनाडा और न्यूजीलैंड जैसे देशों के इंस्टीट्यूट्स में एडमिशन लेने के लिए स्टूडेंट्स को इंग्लिश प्रोफिशिएंसी टेस्ट के दो एग्जाम - इंटरनेशनल इंग्लिश लैंग्वेज टेस्टिंग सिस्टम (आईईएलटीएस) और टेस्ट ऑफ इंग्लिश फॉरेन लैंग्वेज यानी टॉफेल ( टीओईएफएल) में से एक को पास करना होता है। लेकिन ज्यादातर स्टूडेंट्स के लिए यह फैसला लेना मुश्किल होता है कि दोनों में से कौनसा एग्जाम दें। ऐसे में यह जानकारी आपको यह तय करने में मदद करेगी कि कौनसा टेस्ट आपके लिए सही होगा।
 
सामान्य जानकारी
दोनों एग्जाम्स को क्लियर करने वालों का सक्सेस रेट लगभग बराबर है। आईईएलटीएस के दो प्रकार हैं - एकेडमिक और जनरल। एकेडमिक और वर्क वीजा या इमिग्रेशन के लिए अप्लाय करने वाले उम्मीदवारों को जनरल एग्जाम देना होता है। अगर आप कनाडा, न्यूजीलैंड, यूके, ऑस्ट्रेलिया जैसे देशों में पब्लिक रिलेशन्स या एजुकेशन में उच्च शिक्षा लेना चाहते हैं तो आईईएलटीएस चुनें। अगर स्कॉलरशिप (खासकर अमेरिका में) लेना चाहते हैं, तो टॉफेल क्लियर करना बेहतर होगा। 

1. स्पीकिंग कॉम्पोनेंट 
आईईएलटीएस :
लगभग 14 मिनट के इस टेस्ट में एग्जामिनर के सामने बैठाकर स्टूडेंट का स्पीकिंग टेस्ट लिया जाता है। जरूरी नहीं है कि यह टेस्ट दूसरे एग्जाम कॉम्पोनेंट्स की तरह एक ही दिन में लिया जाए। 
 टॉफेल : यहां माइक्रोफोन पर 6 सवालों के जवाब देने होते हैं। जवाबों की रिकॉर्डिंग 6 रिव्यूअर्स को भेजी जाती है। यह टेस्ट बाकी टेस्ट्स के साथ उसी दिन होता है। अवधि करीब 20 मिनट की होती है। 

2. राइटिंग कॉम्पोनेंट 
आईईएलटीएस :
यह परीक्षा दो सेक्शन में होती है। पहले में किसी ग्राफ, चार्ट या टेबल में दी गई जानकारी की समरी लिखना और दूसरे में सवाल का जवाब अपनी राय के साथ 200-250 शब्दों में लिखना होता है। 
 टॉफेल : इस एग्जाम में दो टास्क दिए जाते हैं - पहला है 300-350 शब्दों में पांच-पैराग्राफ का एस्से लिखना और दूसरा है किसी टॉपिक पर आधारित टेक्स्ट व लेक्चर के सारांश के एक हिस्से से नोट्स लेकर उनका जवाब 150-225 शब्दों में देना। 

3. रीडिंग कॉम्पोनेंट 
आईईएलटीएस :
ये टेस्ट तीन सेक्शन में बंटा होता है। हर सेक्शन की अवधि 20 मिनट है। अलग-अलग तरह के कई सवाल फिल इन द गैप्स और शॉर्ट आन्सर के रूप में पूछे जाते हैं। 
 टॉफेल : 3 से 5 रीडिंग सेक्शन में आपकी रीडिंग स्किल्स देखी जाती हैं। आपको क्लासरूम में पढ़ाए जाने वाले एकेडमिक कंटेंट में से मल्टीपल-चॉइस सवालों की सीरीज के जवाब देने होते हैं। हर सेक्शन को 20 मिनट में पूरा करना होता है। 

4. लिसनिंग कॉम्पोनेंट 
आईईएलटीएस :
इस एग्जाम में सुनने की क्षमता को परखा जाता है। उम्मीदवार को रिकॉर्डिंग्स सुनकर जवाब देने होते हैं। इसमें अलग-अलग तरह के कई सवाल और एक्सरसाइज शामिल होती हैं। 
 टॉफेल : 40 से 60 मिनट के इस टेस्ट में कैंडिडेट्स को यूनिवर्सिटी लेक्चर्स या यूनिवर्सिटी कैंपस में होने वाली बातचीत के कुछ अंश सुनाए जाते हैं जिनके आधार पर नोट्स बनाने के बाद स्टूडेंट को एमसीक्यू सीरीज के जवाब देने होते हैं। 


 

Next News

कनाडा में स्टडी के लिए भारतीयों को 60 के बजाय 45 दिन में मिलेगा स्टूडेंट वीजा

जून से लागू हुए एसडीएस प्रोग्राम के तहत स्टूडेंट सभी डेजिग्नेटेड लर्निंग इंस्टीट्यूट्स में कॉलेज स्तर की शिक्षा पा सकेंगे।

अमेरिका में वीजा के सख्त नियम, फिर भी भारतीय स्टूडेंट्स की पहली पसंद

अमेरिका में पढ़ने वाले विदेशी छात्रों की संख्या के लिहाज से देखा जाए, तो भारत दूसरे स्थान पर है।

Array ( )