काउंसलर से जाने एस्ट्रोफिजिक्स और क्लाउड कंप्यूटिंग में कहां हैं संभावनाएं

12वां के बाद हेल्थ साइंसेस में कैसे बनाए करियर? -दिनेश

एजुकेशन  डेस्क। स्कूल और कॉलेज लाइफ में कई स्टूडेंट्स को अपने करियर को लेकर चिंता रहती है कि वह आगे कौन सा कोर्स करें की उन्हें जॉब तलाशने में कोई परेशानी न आए। ऐसे ही कुछ स्टूडेंट्स के सवालों के जवाब दे रहें है करियर काउंसलर जितिन चावला।

Q. मैं कंप्यूटर साइंस में बीटेक कर रहा हूं। फाइनल सेमेस्टर की ट्रेनिंग क्लाउड कंप्यूटिंग में करना चाहता हूं। इसका कोर्स कहां से किया जा सकता है? 

A. क्लाउड कंप्यूटिंग का मतलब इंटरनेट क्लाउड के जरिए अलग-अलग तरह की सर्विस और एप्लीकेशन की डिलीवरी है। आईटी, कंप्यूटर साइंस के बीटेक और मास्टर कोर्सेस में क्लाउड कंप्यूटिंग के कॉन्सेप्ट और एप्लीकेशन के बारे में पढ़ाया जाता है। नया क्षेत्र होने के कारण ज्यादा संस्थानों में इसके कोर्स नहीं हैं। एनआईईएलआईटी, कालीकट व कुछ आईआईआईटी व अन्य संस्थानों में इसके पीजी डिप्लोमा कोर्स संचालित किए जाते हैं। 

Q. मैं बायोलॉजी स्ट्रीम से 10+2 कर रहा हूं और फूड एंड न्यूट्रीशन में करियर बनाना चाहता हूं। इसके कोर्सेस के बारे में जानकारी दें। 

A. फूड एंड न्यूट्रीशन हेल्थ साइंसेस का हिस्सा है। इसमें शरीर की जरूरतों के हिसाब से खान-पान के बारे में बताया जाता है। फिजिक्स, केमिस्ट्री और बायोलॉजी के साथ बारहवीं की परीक्षा पास करने के बाद छात्र फूड एंड न्यूट्रीशन के बैचलर कोर्स में प्रवेश ले सकते हैं। हालांकि, बेहतर कॅरिअर ग्रोथ के लिए मास्टर कोर्स करना जरूरी माना जाता है। डिग्री पूरी करने के बाद छात्र फूड प्रोसेसिंग, डेयरी, बायोटेक, हेल्थकेयर, एग्रीकल्चर आदि इंडस्ट्री में नौकरी हासिल कर सकते हैं। 

Q. मैं बीएससी का छात्र हूं और मेरी रुचि एस्ट्रोफिजिक्स में है। इसके कोर्सेस और जॉब की संभावनओं के बारे में बताएं। 

A. इस फील्ड में करियर के अधिकतर मौके टीचिंग या रिसर्च में हैं। एरोस्पेस या सैटेलाइट मैन्युफैक्चरिंग कंपनी, ऑब्जर्वेटरी या आर एंड डी संस्थानों में भी उन्हें नियुक्त किया जाता है। एस्ट्रोफिजिक्स की पढ़ाई के लिए इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ एस्ट्रोफिजिक्स देश का शीर्ष संस्थान है। इसके अलावा इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ साइंस-बेंगलुरु, जेएनटीयू-हैदराबाद, उस्मानिया यूनिवर्सिटी से भी इसका कोर्स किया जा सकता है। इसके अधिकांश कोर्स पोस्टग्रेजुएट स्तर पर ही संचालित किए जाते हैं। इसमें प्रवेश एंट्रेस टेस्ट के स्कोर के आधार पर मिलेगा। 

Next News

डिफेंस, ट्रांसलेशन एजेंसी के क्षेत्र में जॉब को मौके देती है अरबी लैंग्वेज

अरबी लैंग्वेज सीखने के बाद कहां है रोजगार के अवसर? - राकेश सिंह

सीबीएसई रिजल्ट्स के बाद स्टूडेंट्स और पैरेंट्स के लिए काउंसलिंग शुरू

सीबीएसई एफिलिएटेड स्कूल्स के प्रिंसिपल्स, ट्रेंड काउंसलर्स और स्पेशल एजुकेटर्स स्टूडेंट्स और पेरेंट्स की काउंसलिंग के लिए अवेलेबल होंगे।

Array ( )