एमसीए के बाद कहां हैं मौके बता रहे हैं काउंसलर जितिन चावला

एमसीए के बाद करियर की क्या संभावनाएं हैं, मुझे गाइड करें ? -अमित कश्यप

करियर डेस्क । मास्टर इन कम्प्यूटर एप्लीकेशन (एमसीए) जॉब और आय की दृष्टि से सबसे अच्छा कोर्स माना जा रहा है खासतौर से तब जब भारत दुनिया के उभरते आईटी सेक्टर्स में से एक है। ऐसे में एमसीए की डिग्री लेने वाले स्टूडेंट्स के लिए रोजगार के अवसरों की कोई कमी नहीं है। इसके अलावा कम्प्यूटर टेक्नोलॉजी की नॉलेज के साथ कई अन्य ऑर्गेनाइजेशंस जैसे एकेडमिक, रिसर्च, इंडस्ट्री और सरकारी व प्राइवेट सेक्टर में जॉब मिल सकता है। 


प्रोग्रामर : सिस्टम प्रोग्रामर कम्प्यूटर के एप्लीकेशन प्रोग्राम्स पर रिसर्च करने के बाद उसे डेवलप और अडॉप्ट करते हैं वहीं सॉफ्टवेयर इंजीनियर नए प्रोग्राम तैयार करते हैं। एमसीए के बाद आप दोनों ही कामों के लिए तैयार हो जाते हैं। 

सिस्टम प्रोग्रामर/सॉफ्टवेयर इंजीनियर : एक सिस्टम प्रोग्रामर का काम रिसर्च, डेवलपमेंट और किसी एप्लीकेशन प्रोग्राम को कंप्यूटर में काम करने लायक बनाना है, जबकि सॉफ्टवेयर इंजीनियर का काम एक नया प्रोग्राम तैयार करना है। दोनों के लिए ही इस क्षेत्र में अच्छे अवसर मौजूद हैं। 

सिस्टम एनालिस्ट : ये आईटी की मदद से बिजनेस समस्याओं को सुलझाने के लिए काम करते हैं। 

नेटवर्क एडमिनिस्ट्रेटर : कंपनी के नेटवर्क की प्लानिंग, मेंटेनेंस, हैंडलिंग और ट्रबल शूटिंग का काम एक नेटवर्क एडमिनिस्ट्रेटर के जिम्मे होता है। 

वेब डिजाइनर : एचटीएमएल, डीएचटीएमएल, फ्लैश, जावा स्क्रिप्ट आिद के इस्तेमाल के साथ वेबसाइट बनाने व डिजाइन करने का काम करते हैं।


इन कंपनियों में हैं अवसर 

एमसीए के बाद आप सरकारी क्षेत्र में उपलब्ध अवसरों के लिए आवेदन तो कर ही सकते हैं साथ ही साथ गूगल, माइक्रोसॉफ्ट, इंफोसिस, सिस्को, एचसीएल, टीसीएस, विप्रो, आईबीएम, ओरेकल जैसी सॉफ्टवेयर कंपनियों और कंसल्टेंसी फर्म्स में भी जॉब हासिल कर सकते हैं। 


यहां ले सकते हैं एडमिशन 

बीसीए के बाद एमसीए व रिसर्च के लिए चेन्नई इंस्टीट्यूट ऑफ मैथेमेटिकल साइंस आईआईटी रुड़की, पुणे यूनिवर्सिटी, एनआईटी, जेएनयू, बिट्स पिलानी, दिल्ली यूनिवर्सिटी, अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी, बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी, जामिया मिलिया इस्लामिया जैसे प्रतिष्ठित संस्थानों में एडमिशन ले सकते हैं।

एक्सपर्ट- जितिन चावला, करियर काउंसलर

Next News

माइक्रोबायोलॉजी ग्रेजुएट के लिए कहां हैं नई संभावनाएं?

माइक्रोबायोलॉजी से ग्रेजुएशन के बाद क्या स्कोप है ? - मोनिका सहरावत

ग्लोबलाइजेशन के साथ ही बढ़ रही है उर्दू जानने समझने वालों की डिमांड 

जामिया मिलिया इस्लामिया यूनिवर्सिटी के उर्दूविभाग के एसोसिएट प्रोफेसर डॉ. नदीम अहमद का मानना है कि ग्लोबलाइजेशन के साथ ही देश-विदेश में उर्दू के जानकारों

Array ( )