जिंदगी को जीतना है तो कुछ अलग करें : वीर दास

जिस दिन आप करोड़पति हो जाएं अपने लिए 50 रूपए का चीजबर्गर खरीदें।

FirstPerson। जीवन में काम करने के लिए अलग-अलग फॉर्मूले हैं। इनके अनुसार चलकर हम एक सुरक्षित लाइफ तो जी सकते हैं लेकिन हमें सफल होना है तो हमें इन फॉर्मूलों से अलग कुछ करना होगा। सफल व्यक्तियों को देखें, उनकी सफलता उनकी अलग सोच की वजह से ही संभव हुई है। बचपन से ही मैं भी अलग तरह से सोचता हूं। यही वजह है कि मैंने कॉमेडियन बनना भी चुना है। दरअसल, कॉमेडी करने का मतलब ही है कि आप दूसरों से अलग सोच रहे हैं। उदाहरण के लिए जब मैं जोक्स लिखता हूं तो किसी फैक्ट, सिचुएशन या व्यक्ति को लेकर सोचता हूं कि उसके साथ क्या हो सकता है। इस तरह एक ह्यूमर तैयार हो जाता है। 

बेहतर करने के लिए उत्साह जरूरी है
- किसी भी चलन या फॉर्मूले को तोड़ने की हिम्मत सब में नहीं होती, न ही इसे आसानी से स्वीकारा जाता है, इसीलिए लोग प्रयोग करने से डरते हैं। मैं काेशिश करता हूं कि अपने काम में भी खूब प्रयोग करूं, यहां तक कि ईमेल्स लिखने के दौरान भी मैं कुछ नया करता हूं। लोग या तो मेरे मेल्स को पढ़कर खुश होते हैं या फिर नाराज होते हैं और दूसरों को भी दिखाते हैं, लेकिन भूलते नहीं। दरअसल यह मेरे लिए खुद को ऊर्जावान बनाए रखने का तरीका है।

पहचान बनानी है तो कुछ अलग करें
- हम सब की लाइफ लगभग एक जैसी है। यह कभी उत्साह से भरी तो कभी बहुत से दबावों से भरपूर होती है। इसलिए जरूरी है कि हम सभी अपनी स्थितियों में अलग तरह से सोचना शुरु करें। हमारा नजरिया ही हमें आगे बढ़ने और कुछ नया करने में मदद करेगा। उदाहरण के तौर पर हमारा बहुत समय मीटिंग्स में या फॉर्मल गैदरिंग्स में जाता है। ऐसे में जरूरी है कि हम मीटिंग्स के दौरान थोड़ी खुशी से रहें। साथ ही मीटिंग्स में भी कुछ नया सोचें। एक बात पक्की हैकि कोई भी उस व्यक्ति को याद नहीं रखता जो सिर्फ दूसरों की हां में हां मिलाता रहता है। 

फेलियर व सक्सेस में सहज रहे
- जिस दिन आप बहुत से पैसों का नुकसान झेलें उस दिन अपने आप को कोई खास तोहफा दें। जिस दिन आप करोड़पति हो जाएं अपने लिए 50 रूपए का चीजबर्गर खरीदें। इसका मतलब यह है कि सफलता और असफलता को अपने आप पर हावी न  होने दें बल्कि दोनों ही स्थितियों में
सहज रहें।

Next News

डेडिकेटेड लर्नर बनें, जीत आपकी होगी : पृथ्वी शॉ

पहले ही टेस्ट मैच में शतक लगाकर चर्चा का केन्द्र बना यह युवा क्रिकेटर

रिसोर्सेज की कमी का बहाना न बनाएं-रीमा दास

अपने कॅरिअर की शुरुआत मैंने एक्टिंग से की थी। आगे चलकर मेरी दिलचस्पी फिल्ममेकिंग की ओर हुई तो मैंने इसमें भी हाथ आजमाया।

Array ( )