सेल्स के क्षेत्र में बेहतर करियर बनाने में मददगार हो सकती हैं ये स्किल

सेल्स का सबसे बढ़िया तरीका ज्यादा से ज्यादा लोगों से जुड़ना और उनकी जरूरतों को समझना है। इसके बाद ही आप ग्राहकों के सामने अपने उत्पाद की उपयोगिता को सिद्ध कर पाएंगे।

एजुकेशन डेस्क। किसी की भी कंपनी में सेल्स का काम देखने वाले प्रोफेशनल तय किए गए टार्गेट पूरा करते हैं, जो कमाई का बड़ा जरिया होता है। ये प्रोफेशनल आमतौर पर प्रोडक्ट की बिक्री के लिए तैयार की गई रणनीति पर काम करते हैं। हालांकि कई बार सेल्स और मार्केटिंग को एक ही मान लिया जाता है, लेकिन ये दोनों बिल्कुल ही अलग हैं और इसे लेकर भ्रमित नहीं होना चाहिए। सेल्स के क्षेत्र में काम करने वाले प्रोफेशनल फील्ड में काम करते हैं और टार्गेट पूरा करने का काम करते हैं, जबकि मार्केटिंग के क्षेत्र में काम करने वाले प्रोफेशनल क्रिएटिव तरीकों का उपयोग कर रणनीति तैयार करने का काम करते हैं।

ये कुछ स्किल हैं, जो बेहतर सेल्समैन बनने में मदद कर सकती हैं। 

प्रभावित करने की क्षमता 

- सेल्स के क्षेत्र में बेहतर करियर बनाने के लिए आपको हमेशा दिए गए टार्गेट पूरा करना जरूरी है। इसके अलावा यदि आप और भी अच्छा करते हैं, तो यह आपके लिए फायदेमंद होगा। 
- इसके लिए आपको अपने ग्राहक को प्रभावित करना होता और प्रोडक्ट पर यकीन करवाना होता है। हालांकि यह आसान काम नहीं है। यहीं अपनी बातों और तर्कों के माध्यम से प्रभावित करने की क्षमता काम आती है। 
- इसमें कम्युनिकेशन स्किल की भूमिका भी महत्वपूर्ण होती है। इसका सबसे बढ़िया तरीका ज्यादा से ज्यादा लोगों से जुड़ना और उनकी जरूरतों को समझना है। 
- इसके बाद ही आप ग्राहकों के सामने अपने उत्पाद की उपयोगिता को सिद्ध कर पाएंगे। अपने उत्पाद को लोगों के समक्ष समस्या के हल के रूप में प्रस्तुत करने की जरूरत होती है।

ग्राहक की मानसिकता समझना 

- सेल्समैन के लिए ग्राहक को समझना जरूरी है। यह जानना आवश्यक है कि जिस प्रोडक्ट की मार्केटिंग आप कर रहे हैं, उसे लेकर ग्राहक की क्या राय है। 
- क्षेत्र, भाषा, आयु के आधार पर ग्राहकों की सोच अलग-अलग हो सकती है। उनकी प्राथमिकता को समझ कर प्रभावी तरीके से अपनी बात रख पाएंगे। 

डेटा जुटाना और इसके आधार पर रणनीति तैयार करना 

- कई कंपनीयां सेल्स में बढ़ोतरी करने और अपना विस्तार करने के लिए टेक्नोलॉजी की मदद ले रही हैं। ऐसे में सेल्स टीम को विभिन्न टेक्नोलॉजी जैसे साआरएम सॉफ्टवेयर, आईटी स्किल, एक्सेल और पावर पॉइंट के बारे में पता होना चाहिए। इसके लिए अलावा सेल्स के लिए उपयोग होने वाले अलग-अलग तरीकों के बारे में भी जानकारी महत्वपूर्ण होती है। इससे सेल्स मैन को आगे की रणनीति बनाने में मदद मिलती है। 
- आमतौर पर सेल्समैन के दिन की शुरुआत टार्गेट लिस्ट तैयार करने और मार्केट के नए ट्रेंड के बारे में पता लगाने से होती है। सेल्समैन की टीम मीटिंग कर आगे की योजना तैयार करती है और इसके बाद विभिन्न क्लाइंट या ग्राहक से जुड़ने के काम में लग जाती है।
-  वे फोन और ईमेल के माध्यम से कॉन्टेक्ट करते हैं और उन्हें प्रोडक्ट या सर्विस खरीदने के लिए पिच करते हैं। इसके बाद वे अपने मैनेजर को दिनभर की सेल्स और प्रक्रिया के बारे में जानकारी देते हैं। सेल्स टार्गेट पूरा करने का जुनून ही सेल्समैन को बेहतर करियर बनाने में मदद करता है।

Next News

ICAI की पहल: मॉक टेस्ट के बाद एक्सपर्ट देंगे स्टूडेंट्स की प्रॉब्लम का सॉल्यूशन

इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ चार्टर्ड अकाउंटेंट्स ऑफ इंडिया ने मई में होने वाले फाइनल एग्जाम से पहले लिया टेस्ट, अब 14 और 17 अप्रैल को जारी किया जाएगा मॉक टेस्ट

सीए कोर्स में आईआईटी और आईआईएम की तुलना में एंट्री आसान

प्रैक्टिकल नॉलेज इतनी मिल जाती है कि अगर स्टूडेंट फेल भी होगा तो फाइनेंशियल कुछ भी सेटअप कर सकते हैं।

Array ( )