सुप्रीम कोर्ट ने यूपीपीएससी के मेन एग्जाम पर रोक लगाने के इंकार

प्री-एग्जाम में हुई अनियमितता से कई स्टू़डेंट्स ने सुप्रीम कोर्ट में लगाई थी याचिका

एजुकेशन बोर्ड, लखनऊ। सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को यूपीपीएससी मेन एग्जाम पर रोक लगाने से इनकार कर दिया है। दरअसल  प्री-एग्जाम में हुई गड़बड़ी की शिकायत को लेकर कई छात्रों ने मेन एग्जाम पर  रोक लगाने की मांग करते हुए सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की थी। इस पर फैसला सुनाते हुए कोर्ट ने मेन एग्जाम पर रोक लगाने से मना कर दिया। साथ ही इलाहाबाद हाईकोर्ट को भी आदेश दिया कि प्री-एग्जाम की आंसर शीट की री-वेल्यूशन कराई जाए। सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले के बाद एग्जाम 18 जून को ही कंडक्ट कराया जाएगा। 

45 एग्जाम सेंटर्स बनाए गए है

- यूपीपीएससी मेन एग्जाम में कुल 45 एग्जाम सेंटर्स बनाए गए हैं।
- एग्जाम के दौरान किसी भी तरह की गडबड़ी को रोकने के लिए 6 फ्लाइंग स्क्वॉड बनाए गए है।
- यह फ्लाइंग स्क्वॉड एग्जाम्स सेंटर्स पर आकस्मिक रुप से पहुंचकर स्टूडेंट्स की जांच करेंगे।
- एग्जाम सेंटर्स के अंदर किसी भी तरह की इलेक्ट्रानिक चीजों को ले जाने पर पूरी तरह प्रतिबंध रहेगा। 
- एग्जाम्स सेंटर्स कर ड्यूटी पर मौजूद एग्जामिनर के साथ जोनल मजिस्ट्रेट को भी मोबाइल ले जाने की परमिशन नहीं  होगी।

Next News

बिहार के आदर्श के गूगल से मिला 1.20 करोड़ का ऑफर

आदर्श को 12वीं में मैथ्स और केमेस्ट्री के पेपर में 100 में से 100 मार्क्स मिले थे।

नीट में 2 लाख स्टूडेंट्स बढ़े, जेईई में हुए कम; जॉब सिक्योरिटी सबसे बड़ा कारण

नीट में जॉब सिक्योरिटी और अच्छे अवसर होने के कारण साइंस स्टूडेंट्स मेडिकल को ऑप्ट कर रहे हैं, जबकि जेईई में इनकी संख्या वर्ष 2016 से तेजी से घट रही है

Array ( )