खुद को स्किल्ड बनाने के लिए करें मेहनत : डी शिवकुमार, प्रेसिडेंट आदित्य बिड़ला

First Person: आदित्य बिड़ला के प्रेसिडेंट डी शिवकुमार ने साझा किए मोटिवेशन मंत्रा...

करियर डेस्क । आपके जीवन में कई ऐसे दौर आएंगे जब आपको कंपनी की जरूरत होगी और कई बार ऐसा भी होगा जब कंपनी को आपकी जरूरत होगी। याद रखें, जब आपकाे कंपनी की जरूरत होगी तो आप कंपनी से सहानुभूति की उम्मीद रखेंगे। उस वक्त आप चाहेंगे कि कंपनी आपको समझे और आप यह भी उम्मीद करेंगे कि आपका भावनात्मक रूप से भी ख्याल रखा जाए। इधर, जब कंपनी को आपकी जरूरत होगी तो वह अापसे असाधारण परफॉर्मेंस और परिणामों की उम्मीद करेगी। ऐसे मौके मेरी जिंदगी में भी कई बार आए हैं। इन परिस्थितियों में एक ही फंडा आपको सफलता दिलाता है। फंडा यह है कि पहले वे काम करें जाे कंपनी के लिए सही हैं फिर वे करें जो टीम के लिए सही हों और आखिर में वे करें जो आपके लिए सही हों। 

कमजाेर बॉस के लिए काम नहीं 

जब भी कंपनी को अपना बेस्ट दे रहे होते हैं तो यह जरूर देखें कि आपका बॉस कौन है। कभी भी कमजाेर बॉस के लिए काम न करें। कमजाेर बॉस वे हैं जो बौद्धिक रूप से मजबूत नहीं हैं और हमेशा असुरक्षित महसूस करते हैं। यह बात कंपनी के नोटिस में लाएं और अगर कंपनी नहीं सुनती है तो आगे बढ़ जाएं। मेहनत को व्यर्थ न जाने दें। 

जूनियर्स के लिए विरासत

अपने मौजूदा जॉब में ऐसे काम करें कि मानो वह आपकी आखिरी नौकरी हो। किसी भी पद पर इस तरह काम करें कि आने वाले आपके जूनियर विरासत में आपसे कुछ सीख सकें। ऐसा सिर्फ सीईओ प्रोफाइल के लिए ही नहीं बल्कि मैनेजमेंट ट्रेनी, एरिया सेल्स मैनेजर, मार्केटिंग मैनेजर, फाइनेंस मैनेजर जैसे तमाम पदों के लिए होना चाहिए।

पीछे आएगा पैसा 

पैसों के लिए कभी भी किसी का पीछा करने की जरूरत नहीं है। अगर आपमें काबिलियत है तो पैसा खुद आपके पीछे आएगा। मैंने शॉर्टटाइम मनी के लिए कई लोगों को अपना कॅरिअर बर्बाद करते देखा है। इसके बजाय आपको खुद को स्किल्ड बनाने में समय देना चाहिए। इससे पैसा और सफलता आपके पीछे आएंगे। बस आपको कोशिश सही दिशा में करनी है। 

टेकर नहीं गिवर बनें 

आप जितना ज्यादा समय कंपनी को देते हैं उतना उम्मीद करते हैं कि आने वाले सालों में कंपनी आपको बोर्ड या एडवाइजरी में स्थान दे। लेकिन ऐसा तभी होगा जब कंपनी में अापका योगदान महत्वपूर्ण होगा। इसके लिए आपको टेकर के साथ गिवर बनने की जरूरत है। कंपनी को अपने समय के साथ विश्वसनीयता भी दें। 

Next News

अपने सपनों के लिए बनाइए मास्टर प्लान : एनी दिव्या, दुनिया की यंगेस्ट कमांडर

First person: हमारे शहर में लड़कियों को अनजानी जगहों पर जाने के लिए प्रोत्साहित नहीं किया जाता था। तब इंटरनेट की पहुंच भी सीमित थी। मैं अपने आसपास के लोगों

जब पहली बार मुंबई आया था तो जेब में सिर्फ 37 रुपए थे: अनुपम खेर

First Person : अभिनेता अनुपम खेर ने शेयर किए जीवन और फिल्मी करियर से जुड़े अनुभव।

Array ( )