सफल होने के लिए सबसे जरूरी चीज है आत्मविश्वास : प्रभास

बाहुबली फ्रेंचाइज से रातोंरात सुपरस्टार बने इस अभिनेता ने कॅरिअर की शुरुआत में लगातार असफलताओं का सामना किया है

First Person। मेरी परवरिश हैदराबाद में हुई। मैं तीन बहन-भाइयों में सबसे छोटा हूं। मेरी पढ़ाई हैदराबाद में ही हुई और वहीं से मैंने बीटेक की डिग्री हासिल की। शुरूआत में मैंने कभी नहीं सोचा था कि मैं एक एक्टर बनूंगा, मेरा रुझान बिजनेस की ओर था। हालांकि मेरे प्रोड्यूसर पिता और एक्टर चाचा ने एक-दो बार जब मुझसे एक्टिंग करने के लिए कहा, तो मैंने उनसे पूछा कि कोई इतने लोगों के सामने कैसे एक्टिंग कर सकता है। लेकिन एक बार चाचा के कहने पर मैंने एक्टिंग की जो मेरे कॅरिअर का टर्निंग पॉइंट रहा। कॅरिअर की शुरूआत मैंने तेलुगु फिल्म ईश्वर (2002) से की जिसके बाद मैंने कई फिल्मों में काम किया, लेकिन कुछ खास पहचान नहीं बना सका। वर्ष 2004 में आई फिल्म वर्शम से लोगों ने मुझे पसंद करना शुरू तो किया, लेकिन फिल्म इंडस्ट्री एक ऐसा क्षेत्र है जिसमें हरेक फिल्म के बाद आपको उतनी ही मेहनत करनी होती है जितनी आप शुरूआत में करते हैं।

धैर्य, समर्पण और कड़ी मेहनत से मिलती है सफलता
स्टारडम की अगर बात करें, तो वह मुझे साल 2013 की फिल्म मिर्ची से मिला, लेकिन फिर भी बताना चाहूंगा कि बाहुबली फ्रेंचाइज की फिल्मों ने मुझे वास्तविक मुकाम दिलाया। इस सीरीज के लिए मुझे लगभग पांच साल तक कड़ी मेहनत करनी पड़ी जिसमें मैंने तलवार चलाना, घुड़सवारी करना, हाथी की सवारी करना, बुलफाइटिंग सहित बहुत-से काम सीखे। 17 साल के अनुभव से मुझे लगता है कि धैर्य और काम के प्रति समर्पण हो, तो आपको सफलता जरूर मिलती है।

फिटनेस के लिए खेले गेम्स
काम को बेहतर बनाने के लिए मैं शूटिंग खत्म करने के बाद भी रिहर्सल्स करता हूं। वॉलीबॉल मेरा पसंदीदा खेल है। बाहुबली की शूटिंग के दौरान मैंने फिल्म के सेट के पास ही वॉलीबॉल कोर्ट बनवाया था ताकि मैं अपने फेवरेट गेम से जुड़ा रह सकूं और खुद को ताजा रख सकूं। फिल्म की शूटिंग के दौरान यह खेल मुझे फिट और ऊर्जावान बनाए रखता था।

आपकी योग्यता पर निर्भर है सबकुछ
मैं कभी इस बात की चिंता नहीं करता कि कोई और मेरी जगह ले लेगा। मैं मानता हूं कि हमें हमेशा अपनी योग्यता और मेहनत के अनुपात में रिजल्ट्स मिलते हैं। अगर आप अपने लक्ष्य को हासिल करने के लिए मेहनत करते चले जाएंगे, तो कोई वजह नहीं है कि आपको सफलता न मिले। इसलिए जरूरी है कि आप अपना ध्यान छोटी-छोटी बातों से हटाकर अपने लक्ष्य पर ही रखें। जरूरी नहीं कि आपका मनचाहा क्षेत्र आपको अपने कॅरिअर के रूप में मिले, लेकिन आप जिस भी क्षेत्र में काम करें, उसमें अपना बेहतरीन प्रदर्शन करें।
 

Next News

सफलता एक लंबी प्रक्रिया है जिससे हर किसी को गुजरना पड़ता है : रणवीर बरार

गुरुद्वारे में लंगर तैयार करने से कुकिंग में हुई रुचि, तो लखनऊ में सीखा कबाब बनाना, अब हैं मास्टर शेफ

यह मेरा पैशन ही था जिसने मुझे वर्ल्डचैंपियन बनाया: मानसी जोशी

एक्सीडेंट में पैर खोया तो प्रोस्थेटिक लेग से फिर खड़ी हुई

Array ( )