पिता गांव में चलाते हैं मेडिकल स्टोर, बेटा नीट 2018 के टॉप-5 में शामिल

राजस्थान के छोटे से गांव धोरीमाना के प्रिंस ने नीट 2018 में 5वीं रैंक हासिल की। रोजाना 6 घंटे पढ़ाई करने वाले प्रिंस ने कहा कि एक और सही सवाल उन्हें दूसरी रैंक दिला सकता था।

एजुकेशन डेस्क, जयपुर। केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड द्वारा आयोजित नेशनल एलिजिबिलिटी कम एंट्रेंस यानी नीट 2018 का परिणाम घोषित कर दिया गया है। जिसमें बाड़मेर के प्रिंस चौधरी ने पांचवां स्थान प्राप्त किया है। प्रिंस ने 720 में से 686 अंक प्राप्त कर ऑल इंडिया 5वां स्थान प्राप्त किया है। बता दें कि इस साल बिहार की कल्पान कुमारी ने 720 में से 691 अंक लाकर पहली रैंक हासिल की है। कल्पना में बायोलॉजी में 360 में से 360 अंक हासिल किए हैं। इस सास कुल 7 लाख 14 हजार 298 कैंडिडेट्स ने नीट क्वालिफाय किया है।


रोज 6 घंटे की पढ़ाई

- प्रिंस ने बताया कि वे नीट की तैयारी के लिए दिन में करीब 6 घंटे पढ़ा करते है। इसके साथ उन्होंने एक रूल हमेशा फॉलो किया। जिसमें उन्हें रोज जो सिखाया जाता वो उसका रिविजन रोज किया करते थे। कभी अगले दिन के लिए नहीं टालते थे।
- इसके आगे प्रिंस ने कहा कि 5 रैंक बनने की खुशी तो है, लेकिन अगर एक सवाल सही हो जाता तो दूसरी रैंक बन जाती।

 

पिता गांव में चलाते हैं मेडिकल स्टोर

- बता दें की प्रिंस राजस्थान के बाड़मेर शहर के पास एक छोटे से गांव धोरीमाना गांव के रहने वाले हैं। प्रिंस के पिता रामाराम चौधरी मेडिकल स्टोर चलाते हैं। वहीं मां कमला देवी हाउसवाइफ हैं। इसके साथ उनकी एक 8 साल की बहन सिमरन भी है।

 

पढ़ाई के साथ कॉमिक्स पढ़ने का था शौक

- प्रिंस ने बताया कि पढ़ाई के साथ साथ उन्हें कॉमिक्स पढ़ने का भी शौक है। जिसमें वे बाल भास्कर भी पढ़ना पसंद करते हैं।
- उन्होंने बताया कि वे पिछले 2 साल से कोटा में है। उन्होंने 11वीं और 12वीं की पढ़ाई भी यहीं रहकर पूरी की।

 

एम्स दिल्ली में लेना चाहते हैं एडमिशन

- बता दें कि प्रिंस ने नीट एग्जाम में 99.999606 पर्सेंटाइल हासिल की है। अब प्रिंस एम्स दिल्ली में एडमिशन लेना चाहते हैं।


13 लाख से ज्यादा स्टूडेंट्स हुए थे रजिस्टर


- सीबीएसई एनईईटी 2018 6 मई, 2018 को 2255 परीक्षा केंद्रों पर आयोजित किया गया था। इस साल परीक्षा के लिए कुल 13,26,725 उम्मीदवार पंजीकृत हुए थे। यह एक ऑफलाइन परीक्षा थी।
- एनईईटी 2018 परीक्षा के लिए उत्तर कुंजी 25 मई को जारी कर आपत्तियां मांग ली गई थीं। अब आज इसका परिणाम घोषित कर दिया गया है।
- अभ्यर्थी सीबीएसई की वेबसाइट http://cbseresults.nic.in पर रोल नंबर व जन्म तिथि अपलोड कर अपना परिणाम जान सकेंगे।

 

क्या है नीट एग्जाम

- साल 2016 से पहले तक मेडिकल एंट्रेंस एग्जाम को ऑल इंडिया प्री-मेडिकल टेस्ट (एआईपीएमटी) कहा जाता था। जिससे सरकारी मेडिकल कॉलेजों की 15% एमबीबीएस और बीडीएस की सीटें भरी जाती थीं। बाकी 85% सीटें राज्य सरकार अपनी-अपनी अलग प्रवेश परीक्षा से भरती थीं। इसके साथ ही निजी कॉलेज भी अलग से प्रवेश परीक्षा लेते थे।
- इतनी सारी परीक्षाओं की जगह 2017 में नीट का कॉन्सेप्ट आया और इसी साल पहली बार देशभर में ये परीक्षा हुई। अब इसके जरिए ही छात्रों को निजी और सरकारी मेडिकल कॉलेजों में प्रवेश मिलता है। 
- नीट के जरिए एम्स, जेआईपीएमईआर और एएफएमसी को छोड़कर बाकी सभी सरकारी और निजी मेडिकल और डेंटल कॉलेजों में प्रवेश मिलता है।

नीट 2018 का रिजल्ट देखने के लिए यहां क्लिक करें

Next News

यूपी के 76,778 छात्र नीट क्वालिफाइड, जानें अन्य राज्यों के आंकड़े

इस साल 6 मई 2018 को हुए नीट एग्जाम में लगभग 12 लाख से अधिक कैंडिडेंट्स शामिल हुए, जिसमें से सिर्फ 7 लाख 14 हजार 562 कैंडिडेट्स क्वालिफाय हुए।

रोजाना 13 घंटे पढ़ाई कर बनी नीट की टॉपर, कार्डियोलॉजिस्ट बनना है सपना

कल्पना ने दिल्ली में रहकर इसकी तैयारी की। बायोलॉजी में 360 में से 360 अंक के साथ 99.99 पर्सेंटाइल हासिल किए।

Array ( )