सीबीएसई लीक केस में पुलिस का दावा: पेपर बोर्ड के स्तर पर या फिर बैंकों में लीक हुए

पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि हम सीबीएसई अधिकारियों की भूमिका की भी जांच कर रहे हैं। अब तक सीबीएसई के किसी अधिकारी से पूछताछ नहीं की गई है।

नई दिल्ली। सीबीएसई की 10th  गणित और 12th के अर्थशास्त्र के पेपर लीक की जांच में लगी पुलिस का मानना है कि या तो प्रश्न पत्र बोर्ड अधिकारियों के पास होने के दौरान लीक हुए या फिर उस समय लीक हुए जब वे बैंकों में रखे हुए थे। पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि हम सीबीएसई अधिकारियों की भूमिका की भी जांच कर रहे हैं। अब तक सीबीएसई के किसी अधिकारी से पूछताछ नहीं की गई है।

दिल्ली पुलिस ने सीबीएसई प्रश्नपत्रों के लीक होने को लेकर दो मामले दर्ज किये है। पहला मामला अर्थशास्त्र के प्रश्न पत्र के लीक होने से संबंधित 27 मार्च को दर्ज किया गया था जबकि एक अन्य मामला गणित के प्रश्न पत्र के लीक होने के संबंध में 28 मार्च को दर्ज किया गया था।

सीबीएसई अधिकारियों से कोई लेना-देना नहीं: पेपर लीक आरोपी
- 12वीं क्लास का पेपर लीक कराने के तीन आरोपियों ने पुलिस पूछताछ में सीबीएसई के किसी अधिकारी से सांठगांठ होने से इनकार किया है। पुलिस ने बताया कि रविवार को हुई कार्रवाई में पुलिस ने बवाना स्थिति ने मदर खजानी कॉन्वेंट स्कूल से दो टीचरों को अरेस्ट किया था। इनकी पहचान 29 साल के ऋषभ और 26 साल के रोहित बताई गई है। इनके अलावा एक प्राइवेट कोचिंग का ट्यूटर तौकीर भी गिरफ्तार किया गया था। 
- तीनों से ही सीबीएसई के बर्खास्त अधिकारी केएस राणा से संबंधों के बारे में पूछताछ की गई। हालांकि, किसी ने भी इसे नहीं कबूला। बता दें कि राणा को बोर्ड ने रविवार को एग्जाम सेंटर में लापरवाही बरतने के लिए सस्पेंड कर दिया था।

राणा पर था पेपर लीक कराने का जिम्मा
- बताया जा रहा है कि इकोनॉमिक्स के पेपर लीक कर स्कूल तक पहुंचाने का जिम्मा राणा पर था। उसने समय से पहले ही पेपर्स को स्कूल तक पहुंचा दिया, जिसके बाद रोहित और ऋषि ने पेपर की फोटो साथी तौकीर तक पहुंचा दी थीं। 
- पुलिस ने बताया कि अगर राणा के खिलाफ कोई सबूत मिलता है तो उन पर जांच की जाएगी। फिलहाल उनके खिलाफ विभागीय जांच बिठाई गई है। बता दें कि दिल्ली पुलिस सीबीएसई पेपर लीक पर अब तक दो एफआईआर दर्ज कर चुकी है।

क्या है मामला?

- कुछ ही दिन पहले सीबीएसई 12वीं इकोनॉमिक्स और 10वीं के मैथ्स पेपर लीक होने की खबरें आई थीं।
- सीबीएसई इन दोनों पेपर के लीक होने की बाद मान चुका है। इकोनॉमिक्स का पेपर 26 मार्च को और मैथ्स का 28 मार्च को हुआ था। 10वीं का मैथ्स का पेपर परीक्षा से एक दिन पहले ही सोशल मीडिया पर सर्कुलेट हो गया था।
- वहीं, बारहवीं का पेपर किस दिन लीक हुआ यह साफ नहीं है। हालांकि, पुलिस की जांच में परीक्षा वाले ही दिन सवा घंटे पहले इसे एग्जाम सेंटर से भेजने की बात सामने आ रही है।
- सीबीएसई ने दोनों पेपर रद्द कर दिए हैं। 12वीं इकोनॉमिक्स की परीक्षा 25 अप्रैल को दोबारा होगी। हालांकि, 10वीं मैथ्स की परीक्षा की तारीख का एलान अभी बाकी है।

Next News

CBSE Economics Re-Test : 25 अप्रैल को एग्जाम के कारण देश के कई एंट्रेस एग्जाम की नहीं दे पाएंगे स्टूडेंट्स

चिंता वाली बात यही है कि बोर्ड एग्जाम्स का शेड्यूल आगे बढ़ने से विभिन्न प्रवेश परीक्षाओं और रिजल्ट में स्टूडेंट्स के लिए कई उलझनें पैदा हो गई हैं।

CBSE Paper Leak: 12'th के स्टूडेंट्स को दोबारा नहीं देना होगा इकोनॉमिक्स का एग्जाम

शिक्षा सचिव के अनुसार पहले परीक्षा दे चुके 12th के एनआरआई (Non-Resident Indians) स्टूडेंट्स का एग्जाम फिर से नहीं लिया जाएगा।

Array ( )