NIT में खत्म होगा पेपर वर्क, रिसर्च और प्रोजेक्ट की सॉफ्टकॉपी होगी सबमिट

डिजिटलाजेशन और ई-कैंपेनिंग के तहत इंस्टीट्यूट के इंट्रानेट पर अपलोड किए गए प्रोजेक्ट-थिसिस।

एजुकेशन डेस्क। पेपर वर्क खत्म करने और डिजिटलाइजेशन को बढ़ावा देने नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (एनआईटी) में ई-कैंपेन शुरू किया गया है। इसके तहत फाइनल ईयर के स्टूडेंट्स ने अपनी प्रोजेक्ट फाइल्स सॉफ्टकॉपी में सबमिट की हैं, जिसे इंस्टीट्यूट के इंट्रानेट पर अपलोड कर दिया गया है। पेपरलैस वर्किंग को प्रमोट करने के लिए शुरू की गई इस पहल का फायदा जूनियर स्टूडेंट्स को भी मिलेगा। वे नाेट्स और प्रोजेक्ट्स के अाइडिएशन के लिए सीनियर्स की प्रोजेक्ट फाइल की मदद ले सकेंगे। आईटी डिपार्टमेंट के एचओडी सुधाकर पांडेय ने दावा किया कि देशभर में संचालित 31 एनआईटीज़ में से एनआईटी रायपुर इकलौता संस्थान है, जहां ये कैंपेन शुरू किया गया है। 

स्टूडेंट्स ने बनाए एप
- जल्द ही सभी डिपार्टमेंट में कम्युनिकेशन के लिए पूरी तरह डिजिटल प्लेटफॉर्म यूज किया जाएगा। 
- स्टूडेंट्स में ई-कैंपेनिंग के प्रति इंट्रेस्ट बढ़ाने हाल ही में एप डेवलपमेंट कॉम्पिटीशन रखा गया था, जिसमें बेस्ट-3 एप को इंस्टीट्यूट को डिजिटलाइज करने में यूज किया जाएगा। 
- इसमें स्टूडेंट्स ने लीव एप्लीकेशन सिस्टम, मीटिंग मैनेजमेंट सिस्टम, ऑनलाइन बुकिंग, व्हीकल एंड ऑडिटोरियम, वर्चुअल क्लासरूम मैनेजमेंट सिस्टम यानी गूगल क्लासरूम जैसी वर्किंग के लिए एप बनाए थे। 

सेल्स टैक्स डिपार्टमेंट स्टूडेंट्स को देगा जीएसटी की ट्रेनिंग 
- गुड एंड सर्विसेस टैक्स यानी जीएसटी आने के बाद बिजनेसमैन को रिटर्न फाइन करने में आ रही समस्या को देखते हुए सेल्स टैक्स डिपार्टमेंट ने पहल की है। इसके तहत अकाउंटेंसी जानने वाले कॉलेज स्टूडेंट्स को डिपार्टमेंट जीएसटी की फ्री ट्रेनिंग देगा। 
- स्टूडेंट्स को रिटर्न फाइल करने के साथ जीएसटी में किए जाने वाले कार्यों के बारे में बताया जाएगा। डिप्टी कमिश्नर स्टेट टैक्स डिपार्टमेंट, रायपुर डिविजन एमके धनेलिया ने बताया कि ट्रेनिंग के लिए डिपार्टमेंट ने शहर के सभी कॉलेजों और यूनिवर्सिटीज को लेटर भेजा है। 
- कुछ कॉलेजों ने इच्छुक स्टूडेंट्स के नाम की लिस्ट हमें भेजी है। ट्रेनिंग में स्टूडेंट्स को रिटर्न फाइल करने के बारे में पूरी जानकारी के साथ जीएसटी के बारे में बताया जाएगा। 
- ट्रेनिंग के बाद स्टूडेंट्स बिजनेसमैन की रिटर्न फाइल भरने में मदद कर सकेंगे। इस पहल से फाइनेंशियल प्रॉब्लम फेस करने वाले स्टूडेंट्स को पार्ट टाइम जॉब करने का भी मौका मिलेगा। 

अब जूनियर्स को मिलेगा फायदा 
- ई कैंपेन के तहत एनआईटी के इंट्रानेट पर फाइनल ईयर के स्टूडेंट्स के प्रोजेक्ट्स और थिसिस की सॉफ्टकॉपी अपलोड कर दी गई है। इसका फायदा उन जूनियर्स को मिलेगा, जो किसी प्रोजेक्ट पर काम कर रहे हैं। 
- इसे वे आसानी से कभी भी पढ़ सकेंगे। जूनियर्स को लाइब्रेरी में प्रोजेक्ट पढ़ने या इश्यू कराने की जरूरत नहीं पड़ेगी। 
 

Next News

यूजीसी को आदेश: यूनिवर्सिटीज को देना होगा 50% स्टूडेंट्स को प्लेसमेंट

शिक्षा की गुणवत्ता सुधारने को यूजीसी ने अनिवार्य की रोजगार दर, 5 गांवों को गोद भी लेना होगा

IIIT दिल्ली के स्टूडेंट्स को 71 लाख सालाना का पैकेज, अब तक का सबसे बेस्ट

एम-टेक में 100% रहा प्लेसमेंट रेट, बी-टेक के 94% स्टूडेंट हुए सिलेक्ट

Array ( )