MPPSC / अप्रैल में होनी थी प्रारंभिक परीक्षा, लेकिन अब तक विज्ञापन ही जारी नहीं

आयोग का तर्क-उम्मीदवारों की अधिकतम आयु सीमा तय नहीं इसलिए हो रही है देरी

एजुकेशन डेस्क।  आमतौर पर दिसम्बर से जनवरी के बीच विज्ञापन जारी करने वाले मप्र लोक सेवा आयोग (एमपीपीएससी)ने अभी तक प्रारंभिक परीक्षा का विज्ञापन जारी नहीं किया है । ऐसे में पीएससी की तैयारी कर रहे लाखों उम्मीदवार परेशान हैं। इनमें ऐसे उम्मीदवार भी शामिल हैं जो समय पर परीक्षा नहीं होने के कारण ओवरएज हाे गए हैं। गौरतलब है कि 2018 में हुई एमपीपीएससी अंतिम चयन सूची जारी हुए भी छह माह हो चुके हैं। ऐसे में इस परीक्षा की तैयारी कर रहे प्रदेश के लाखों उम्मीदवार असमंजस की स्थिति में हैं।

दूसरी तरफ आयोग सरकार से उम्र सीमा के संबंध में निर्देश मिलने का इंतजार कर रहा है। आयोग का तर्क है कि जब तक सरकार से अधिकतम आयुसीमा के संबंध में निर्देश नहीं मिल जाते, तब तक परीक्षा का विज्ञापन जाारी किया जाना संभव नहीं है। आयोग द्वारा जारी किए गए 2019 के एग्जाम केलेंडर के अनुसार जनवरी में इस परीक्षा का विज्ञापन जारी होना था और अपैल में परीक्षा आयोजित होनी थी। मई में प्रारंभिक परीक्षा का रिजल्ट जारी होना था लेकिन अभी तक आयोग ने परीक्षा का विज्ञापन तक जारी नहीं किया है।


असिस्टेंट प्रोफेसर परीक्षा में दूसरे राज्यों के उम्मीदवारों को मिली थी छूट
- असिस्टेंट प्रोफेसर भर्ती परीक्षा में सरकार ने मप्र के मूल निवासयों को आयुसीमा में जहां 10 से 15 वर्ष की छूट दी थी वहीं दूसरे राज्यों के उम्मीदवारों की उम्र की सीमा 28 रखी गई थी। इस मामले में उप्र के एक उम्मीदवार ने हाईकोर्ट में याचिका लगाई थी। इस उम्मीदवार की याचिका पर हाईकोर्ट ने उम्र के आधार पर दूसरे राज्यों के उम्मीदवारों के साथ किसी प्रकार के भेदभाव को संविधान के अनुच्छेद 16(1) का उल्लंघन बताया था। हाईकोर्ट के आदेश के बाद मप्र सरकार के आदेश से एमपीएससी ने प्रोफेसर भर्ती परीक्षा में दूसरे राज्यों के उम्मीदवारों को भी आयुसीमा में छूट दे दी थी।

जानकारों का कहना है कि हाईकोर्ट का यह आदेश मप्र में दूसरी सरकारी परीक्षाओं के विज्ञापन न जारी होने की वजह बन गया है। जानकारी के अनुसार मप्र पीएससी ने इस मामले में सामान्य प्रशासन विभाग को पत्र लिखकर मार्गदर्शन मांगा है। पीएससी ने प्रोफेसर भर्ती परीक्षा में दूसरे राज्यों के उम्मीदवारों को दी छूट को केवल एक ही बार लागू होने की बाद कही थी लेकिन हाईकोर्ट के इस आदेश के आधार पर राज्य सेवा एवं राज्य वन सेवा सहित दूसरी परीक्षाओं में भी उम्मीदवार कोर्ट जा सकते हैं।

ओवरएज हो गए हजारों उम्मीदवार, कहा -हमें एक मौका और मिले
- वारासिवनी की दमयंती पटले पति की मौत के बाद दो साल पहले पीएससी की तैयारी शुरू की है। उन्होंने पहली बार में ही प्रारंभिक परीक्षा पास कर ली थी लेकिन मुख्य परीक्षा के पास नहीं कर पाई। जयवंती के पास इस परीक्षा में बैठने का आखिरी मौका था क्योंकि जनवरी 2019 के बाद वे 45 वर्ष की हो जाएंगी। आयोग द्वारा विज्ञापन जारी नहीं होने से जयवंती की सारी उम्मीदें टूटती नजर आ रही हैं। उनका कहना है कि यदि आयोग समय से विज्ञापन जारी करता तो वे भी यह परीक्षा दे सकती थी। जयवंती का कहना है कि उनके साथ तैयारी करने वाली लगभग एक दर्जन महिलाएं ओवरएज हो गई हैं।

आयोग के एग्जाम कैलेंडर के तहत जुलाई में होनी थी मुख्य परीक्षा
विज्ञापन - जनवरी 2019 प्री परीक्षाा- अप्रेल 2019 परिणाम- मई 2019 मुख्य परीक्षा- जुलाई 2019
परिणाम-अक्टूबर 2019 साक्षत्कार - नवम्बर 2019 अंतिम चयन सूची- दिसम्बर 2019

उम्मीदवारों की उम्र को लेकर सरकार से अभी तक स्पष्ट निर्देश प्राप्त नहीं हुए हैं। इसी वजह से विज्ञापन जारी करने में देर हो रही है। जहां तक उम्मीदवारों की उम्र सीमा का सवाल है इस बारे में अभी कुछ कहना संभव नहीं है।
रेणु पंत, सचिव मप्र लोकसेवा आयोग

Next News

भास्कर खास / बीई...ईसी में सबसे अधिक 1744 और सीएस में 676 सीटें हुईं कम

पहले राउंड में ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया 15 जून से, बीई में पिछले सत्र की तुलना में 5 हजार 732 सीटें हुईं कम

Array ( )