मध्य प्रदेश / स्कूलों में 100 से ज्यादा छात्र, वहां नियुक्त होंगे व्यायाम व कला के शिक्षक

पार्ट टाइम इंस्ट्रक्टर... नया सत्र शुरू होने के कई महीने बाद इंस्ट्रक्टर की तलाश

एजुकेशन डेस्क। प्रदेश के ऐसे मिडिल स्कूल जहां 100 से ज्यादा छात्र पढ़ रहे हैं वहां पार्ट टाइम इंस्ट्रक्टर रखे जाएंगे। नया सत्र शुरू होने के कई महीने बाद इंस्ट्रक्टर की तलाश की जा रही है। शिक्षा के अधिकार अधिनियम के अंतर्गत इन्हें रखे जाने का प्रावधान है। इस संबंध में राज्य शिक्षा केंद्र ने सभी जिला शिक्षा अधिकारियों को निर्देश दिए हैं।

जिला शिक्षा अधिकारियों को कहा गया है कि उनके क्षेत्र में 100 से अधिक नामांकन वाली माध्यमिक शालाओं में हाई व हायर सेकंडरी स्कूलों में पदस्थ व्यायाम निदेशक, योग, संगीत और कला के शिक्षक रखे जाएं। इसी के साथ हेड स्टार्ट केंद्र के रूप में चिन्हित स्कूलों में उपलब्ध कंप्यूटर और प्रशिक्षित शिक्षकों को सप्ताह में कम से कम एक दिन स्वास्थ्य और शारीरिक शिक्षा, कला शिक्षा और कंप्यूटर प्रशिक्षण संबंधित गतिविधियां आयोजित करनी होंगी। 

30 तक बनाना होगी कार्ययोजना…
राज्य शिक्षा केंद्र की संचालक आईरीन सिंथिया जेपी ने सभी जिला शिक्षा अधिकारियों को 30 सितंबर तक कार्ययोजना बनाकर संबंधितों को निर्देशित करने के लिए कहा है। इसी के साथ उन्हें यह भी बताना हाेगा कि उन्होंने इस दिशा में किसे ताकीद किया है। अधिकारियों को स्कूलाें की संख्या के साथ वहां पार्टटाइम भेजे गए इंस्ट्रक्टर की पूरी जानकारी भी उन्हें देना होगी। 

पांच साल से अटकी हुई है प्रक्रिया…
गौरतलब है कि पार्ट टाइम इंस्ट्रक्टर के खाली पदों पर भर्ती प्रक्रिया के निर्धारण की कार्यवाही शासन स्तर पर विचाराधीन है। नया शैक्षणिक सत्र शुरू हुए करीब पांच माह हो चुके हैं इसलिए पदों की स्वीकृति और भर्ती प्रक्रिया के निर्धारण तक पार्ट टाइम इंस्ट्रक्टर रखे जाएंगे। करीब पांच साल से यह प्रक्रिया अटकी हुई है।

आठ किमी के दायरे में हो स्कूल, सप्ताह में कम से कम एक दिन देना होगा प्रशिक्षण 
योग, संगीत, कला, कंप्यूटर आदि के प्रशिक्षित शिक्षक और प्राइवटे हाई और हायर सेकंडरी स्कूल के अतिरिक्त हेड स्टार्ट केंद्र के रूप में चिह्नित माध्यमिक शालाओं में उपलब्ध कंप्यूटर और इस क्षेत्र में कार्यरत प्रशिक्षित शिक्षकों को 8 किमी के दायरे में सप्ताह में कम से कम एक दिन स्वास्थ्य एवं शारीरिक शिक्षा, कला शिक्षा आैर कंप्यूटर का प्रशिक्षण देना होगा। सप्ताह में एक बार ऐसा किया जाएगा। ऐसा करने से शिक्षकों के मूल स्कूल में भी किसी प्रकार की गतविधि प्रभावित नहीं होगी। जिला शिक्षा अधिकारियों को कहा गया है कि वे इस संबंध में जिले के सरकारी स्कूलों के संकुल प्राचार्यों से जानकारी लें। इसके बाद संबधित ं स्कूलों के हिसाब से शिक्षक और उनके लिए आवटित ं दिन का आदेश प्रत्येक संकुल के लिए जारी किया जाएं।

Next News

मध्य प्रदेश / हिंदी विवि में गेस्ट फैकल्टी से पद भरने पर दूसरे संस्थानों में भर्ती पर होगा असर

नए अवसर हाेंगे कम} राज्यपाल व उच्च शिक्षा मंत्री के आश्वासन के बाद शुरू हुई नई बहस

CBSE / स्टैंडर्ड पेपर नहीं देने पर कक्षा 11वीं में नहीं ले पाएंगे गणित

कक्षा 10वीं के लिए मैथ्स को लेवल-बेसिक और स्टैंडर्ड में डिवाइड किया है

Array ( )