जानें परीक्षा पैटर्न और कैसे करें IBPS PO के एग्जाम की तैयारी 

इस साल 13 अक्टूबर को यह परीक्षा 3562 पदों के लिए आयोजित होने वाली है।

एजुकेशन डेस्क। बैकिंग के क्षेत्र में कॅरिअर बनाने की इच्छा रखने वाले स्टूडेंट्स के लिए आईबीपीएस पीओ की परीक्षा बेहद अहम है। एसबीआई को छोड़कर देश के दूसरे सभी बैंकों में जॉब के लिए इंस्टीट्यूट आॅफ बैंकिंग पर्सनेल सलेक्शन परीक्षा आयोजित करता है। इस साल 13 अक्टूबर को यह परीक्षा आयोजित होने वाली है। इसके जरिए पीओ के 3562 पदों के लिए सलेक्शन किया जाएगा। इन सभी पदों के लिए उम्मीदवार को प्रिलिम्स के बाद मेन एग्जाम और फिर इंटरव्यू के माध्यम से परखा जाता है और फिर शॉर्टलिस्ट किया जाता है। अगर एग्जाम में सफलता हासिल करके पीओ का पद अपने नाम करना चाहते हैं तो सबसे पहले आपको इसके पैटर्न को समझना होगा और फिर बचे हुए समय में तैयारी की सही रणनीति अपनानी होगी। 

आईबीपीएस परीक्षा पैटर्न 
- आईबीपीएस पीओ के प्रिलिम्स में इंग्लिश लैंग्वेज, रीजनिंग और क्वान्टिटेटिव एप्टीट्यूड के कुल 100 एमसीक्यू टाइप सवाल पूछे जाते हैं जिन्हें हल करने के लिए कुल 1 घंटे का समय होता है। मेंस परीक्षा में पांच अलग-अलग सेक्शन हैं जिनमें रीजनिंग व कम्प्यूटर, जनरल अवेयरनेस व इकोनॉमी, इंग्लिश लैंग्वेज, डेटा एनालिसिस व इंटरप्रिटेशन और इंग्लिश एस्से राइटिंग शामिल हैं। मुख्य परीक्षा 225 अंकों की होती है िजसके लिए साढ़े तीन घंटे का समय दिया जाता है। 

ऐसे करें तैयारी 
- प्लानिंग और स्ट्रैटजी के साथ की गई तैयारी आपको किसी भी एग्जाम में सफलता दिला सकती है। ऐसे में अगर आईबीपीएस पीओ एग्जाम आपका लक्ष्य है तो अब बचे हुए कुछ दिनों में तैयारी के ये कदम उठाकर आप अपनी सफलता पक्की कर सकते हैं। 

प्लानिंग
ईबीपीएस पीओ एग्जाम के लिए आपको सही प्लानिंग और स्ट्रैटजी के साथ तैयारी करने की जरूरत होती है। सबसे पहले आईबीपीएस परीक्षा के सिलेबस को सही तरीके से फॉलो करना जरूरी है। किसी स्टडी प्रोग्राम को जॉइन करके आप यह जान सकते हैं कि किस टॉपिक की तैयारी में आपको कितना समय देना है। साथ ही अपने कमजोर पॉइंट्स को पर्याप्त समय दें। इस परीक्षा की तैयारी में लगने वाला समय पूरी तरह आपकी प्लानिंग और स्किल्स पर ही निर्भर करता है। 

टाइम मैनेजमेंट
- इस एग्जाम में कामयाबी के लिए मजबूत तैयारी के साथ-साथ एग्जाम के दौरान टाइम का प्रभावी मैनेजमेंट करना जरूरी है। किसी एक टॉपिक के बजाय पूरे सिलेबस को ध्यान में रखते हुए हर टॉपिक के लिए पर्याप्त टाइम तय करें। इसी तरह परीक्षा के दौरान भी टाइम का प्रबंधन आपके स्कोर को बढ़ा सकता है। इसलिए प्रैक्टिस में सवालों को हल करने में लगने वाले समय का ध्यान रखें। कमजोर टाइम मैनेजमेंट की वजह से आपके कई सवाल छूट सकते हैं। 

ध्यान रखें 
- परीक्षा में इंग्लिश लैंग्वेज को छोड़कर बाकी सेक्शन्स को हिंदी और इंग्लिश में सॉल्व करने का आॅप्शन होता है। 
- यह भी ध्यान रखें कि यहां सेक्शनल कटआॅफ होती है यानी हरेक सेक्शन की अलग कटआॅफ। इसके बाद मेन्स तक पहुंचने के लिए आपको आईबीपीएस द्वारा निर्धारित एक न्यूनतम ओवरआॅल कटऑफ को भी पार करना होगा। 
- इस एग्जाम में नेगेटिव मार्किंग भी की जाती है। हर गलत जवाब के लिए सवाल के निर्धारित अंक का 1/4 िहस्सा आपके कुल मार्क्स में से काट दिया जाता है। 
- आईबीपीएस पीओ की प्रैक्टिस के लिए ज्यादा से ज्यादा मॉक टेस्ट हल करें। पिछले कुछ सालों के पेपर सॉल्व करके आप एग्जाम और पेपर का अंदाजा ले सकते हैं। इससे न केवल आपकी प्रैक्टिस अच्छी होगी बल्कि आप अपनी तैयारी का मूल्यांकन भी कर पाएंगे और अपने कमजोर - पॉइंट्स की पहचान भी। पढ़ाई के साथ-साथ जरूरी ट्रिक्स, फॉर्मूला और टॉपिक्स के नोट्स तैयार करें और रिवीजन में इन नोट्स की मदद लें, आप कम समय में बेहतर रिवाइज कर पाएंगे। 

प्रैक्टिस करें और नोट्स से रिवाइज करें 
पूरा सिलेबस एक साथ कवर न करें 

- टॉपर्स भी टॉपिक के हिसाब से तैयारी करने की सलाह देते हैं। आईबीपीएस पीओ का सिलेबस काफी विस्तृत है, ऐसे में आप कई टॉपिक्स को एक साथ कवर करने की जल्दबाजी न करें। पहले किसी एक टॉपिक को पूरी तरह से तैयार कर लेने के बाद ही दूसरे टॉपिक को पढ़ना शुरू करें। 

खुद को अपडेट करते रहें 
- इस परीक्षा के लिए अपनी चार कोर स्किल्स रीडिंग, राइटिंग, लिस्निंग व स्पीकिंग को अपडेट करने की जरूरत है। इंग्लिश ग्रामर को बेहतर बनाने के लिए उसका नियमित अध्ययन करें और अपनी ओवरआॅल अवेयरनेस को बढ़ाने के लिए न्यूज पेपर व मैग्जीन पढ़ें, न्यूज चैनल देखने के साथ-साथ जनरल नॉलेज व करंट अफेयर्स से खुद को अपडेट करते रहें। 

इन टॉपिक्स की करें मजबूत प्रिपरेशन 
- एनालिटिकल व लॉजिकल रीजनिंग, ब्लड रिलेशन, कोडिंग - डीकोडिंग, एस्से राइटिंग, इंग्लिश ग्रामर, जीके, करंट अफेयर के अलावा डेटा इंटरप्रिटेशन, कैल्कुलेशन, बेसिक कम्प्यूटर नॉलेज जैसे टॉपिक्स पर मजबूत पकड़ परीक्षा में सफलता के लिए जरूरी है। 

Next News

कॉर्पोरेट वर्ल्ड में कॅरिअर के अच्छे मौके देती है कोरियन लैंग्वेज

पोस्को और सैमसंग जैसी कंपनी भी स्टूडेंट्स को फेलोशिप देती हैं। 

प्रतियोगी परीक्षाओं में सफलता पाने के लिए इन 6 टिप्स को करें फॉलो

मनोवैज्ञानिक और कॅरियर काउंसलर नूरजहां खान के 6 टिप्स

Array ( )