निवेश के टिप्स: गिरावट में एसआईपी रोकना वित्तीय लक्ष्य को डाल सकता है खतरे में

एसआईपी निवेशक जरूर चिंतित होंगे लेकिन, अब यदि उन्होंने रिडीम कर लिया तो अस्थायी नुकसान, स्थायी हो जाएगा। 

नॉलेज भास्कर। 4 अक्टूबर को 806 अंक की गिरावट बीएसई की पिछले पांच वर्षों में एक दिन में हुई पांचवीं सबसे बड़ी गिरावट थी। निवेशक अपने इक्विटी पोर्टफोलियों को लेकर चिंतित हैं। कुछ इक्विटी फंड में एसआईपी रोक देते हैं, जबकि अन्य अपने निवेश को रिडीम कर लेते हैं ताकि और नुकसान न हो। एसआईपी निवेशक जरूर चिंतित होंगे लेकिन, अब यदि उन्होंने रिडीम कर लिया तो अस्थायी नुकसान, स्थायी हो जाएगा। 

पांच साल पहले डायवर्सिफाइड इक्विटी फंड में एसआईपी शुरू करने वाला और बाजार के उतारचढ़ाव के बावजूद निवेश जारी रखने वाले निवेशक ने 10.5 फीसदी का रिटर्न कमाया होता। लेकिन, गिरावट के एक दिन पहले बाहर आकर 10 गिरावट को टालने वाला निवेशक 13.8 फीसदी रिटर्नप्राप्त करेगा।

कुछ ही लोग समझ पाते हैं कि लक्ष्य 15-20
- साल के होते हैं इसलिए इन अल्पकालिक गिरावटों का ज्यादा महत्व नहीं है। गिरावट तो निवेशक के लिए एसआईपी में एकमुश्त राशि लगाने का अवसर होता है। पर बेहतर है कि चल रही एसआईपी से छेड़छाड़ न की जाए। एक स्टडी में पता चला कि बुलिश टाइमर ने एसआईपी को अगले माह बढ़ाकर गिरावट के दिन अधिक निवेश किया। वह नियमित एसआईपी निवेशक की तुलना में आंशिक रूप से अधिक रिटर्न लेता है।

क्या एसआईपी निवेशक को बाजार के साथ चलना चाहिए?
- आईए, देखें कि सबसे बड़ी गिरावट टालकर
- एसआईपी निवेशक ने कितना रिटर्नलिया?

- नियमित निवेशक : एसआईपी में निवेश जारी रखा फिर उतार-चढ़ाव जो भी हो। कॉर्पस वैल्यू 3.36 लाख और रिटर्न 10.51 फीसदी।

- परफेक्ट टाइमर : सारी दस गिरावटों के एक दिन पहले बाहर होकर अगली एसआईपी तारीख पर फिर निवेश किया। बाजार की हलचल का पूर्वानुमान लगाने की क्षमता होनी चाहिए। कॉर्पस वैल्यू 4.33 लाख (अल्पकालिक कैपिटल गेन्स पर 5,945 रुपए टैक्स) 13.77 फीसदी रिटर्न।

- सतर्कता बरतने वाला निवेशक : सारी गिरावट के एक दिन पहले निवेश से बाहर हो गया और अगल माह की एसआईपी तारीख गुजरने के बाद निवेश किया। कॉर्पस वैल्यू 3.96 लाख  (4,151 अल्प अवधि कैपिटल लॉस, जो अन्य लाभों से संतुलित किया जा सकता है)। रिटर्न 10.54 फीसदी।

बुलिश टाइमर : सारी गिरावट में अगले माह की एसआईपी को एडवान्स करके अधिक निवेश किया।

- कार्पस वैल्यू : 3.97 लाख, रिटर्न 10.63 फीसदी। यहां माना गया है कि सारे निवेशकों ने डायवर्सिफाइड इक्विटी फंड (एचडीएफसी इक्विटी) में अक्टूबर 2013 में 5,999 रुपए के एसआईपी से शुरुआत की थी। सारे एसआईपी हर माह के पहले ट्रेडिंग डे पर किए गए और रिटर्न की गणना 4 अक्टूबर 2018 के आईआरआर डेटा के आधार पर की गई। 

Next News

इतिहास में आज (30/10/2018) : 58 साल पहले सर्जन वुडरफ ने किडनी ट्रांसप्लांट शुरू किया था

माइकल वुडरफ को 1960 में शल्य चिकित्सा विज्ञान में योगदान के लिए लिस्टर पदक से सम्मानित किया गया।

रिसोर्सेज की कमी का बहाना न बनाएं-रीमा दास

अपने कॅरिअर की शुरुआत मैंने एक्टिंग से की थी। आगे चलकर मेरी दिलचस्पी फिल्ममेकिंग की ओर हुई तो मैंने इसमें भी हाथ आजमाया।

Array ( )