हॉकिंग्स जैसी बीमारी पर हारना नहीं सीखा जयपुर के हर्षित ने

महान वैज्ञानिक स्टीफन हॉकिंग्स से तुलना तो संभव नहीं पर जयपुर के हर्षित कुदेसिया की कहानी हर उस बच्चे को मोटिवेट कर सकती है जो खुद को कमजोर पाता है।

महान वैज्ञानिक स्टीफन हॉकिंग्स से तुलना तो संभव नहीं पर जयपुर के हर्षित कुदेसिया की कहानी हर उस बच्चे को मोटिवेट कर सकती है जो खुद को कमजोर पाता है। हर्षित की स्थिति को देखकर आपको एक बार तरस आए तो ये आपकी भूल होगी क्योंकि ये लड़का असहाय नहीं, स्वयं सक्षम है। पांचवी क्लास से शुरू हुई एक अचानक बीमारी ने हर्षित को दुनिया की नजरों में भले ही असहाय कर दिया हो पर वो हौसले के पंख लगाए नए आसमान छूना चाहता है। उसकी चाह इथिकल हैकर बनने की है ताकि देश के काम आ सके। 

Next News

अपने दिमाग के गुलाम होते हैं आप, यकीन न आए तो देखिए ये Video

आपको नामों की एक लिस्ट दिखाई जाए और उनमें से कोई एक नाम चुनने के लिए कहें तो आप कौन सा नाम चुनेंगे?

Array ( )