IIT बॉम्बे की सीएस और मद्रास की इलेक्ट्रिकल ब्रांच का रहेगा क्रेज

ज्वॉइंट सीट एलोकेशन अथॉरिटी (जोसा) ने जारी की ओपनिंग और क्लोजिंग रैंक

एजुकेशन डेस्क, ग्वालियर। जेईई एडवांस्ड का रिजल्ट आने वाला है। इसके साथ ही देश के आईआईटी की टॉप ब्रांच पाने के लिए कॉम्पटीशन एक बार फिर टफ रहने वाला है। पिछले वर्षों में आईआईटी बॉम्बे की कम्प्यूटर साइंस ब्रांच टॉप पर है, लेकिन इसकी इलेक्ट्रिकल ब्रांच की तरफ छात्र-छात्राओं का रुझान कम हुआ है। 3 साल के ज्वॉइंट सीट एलोकेशन अथॉरिटी (जोसा) की ओपनिंग और क्लोजिंग रैंक पर नजर डालें तो आईआईटी बॉम्बे की सीएस ब्रांच 2015 में 1 से 59 पर और 2017 में 1-62 पर क्लोज हुई थी। आईआईटी मद्रास की इलेक्ट्रिकल ब्रांच 2015 में 61 से 605 क्लोज हुई। वहीं 2017 में 40 से 641 पर खत्म हुई। इससे अंदाजा लगाया जा सकता है आईआईटी मद्रास की इलेक्ट्रिकल ब्रांच स्टूडेंट्स की पसंद बनती जा रही है। एक्सपर्ट तजेंद्र सोलंकी का कहना है कि इस बार भी सीएस ब्रांच टॉप पर रहेगी। इसके बाद इलेक्ट्रिकल, सिविल, मैकेनिकल स्टूडेंट्स लेना पसंद करेंगे। 

 

बॉम्बे की इलेक्ट्रिकल का रुझान हुआ कम 
- 3 साल में आईआईटी बॉम्बे की इलेक्ट्रिकल ब्रांच का क्रेज कम हुआ है। 2016 में 22 पर ओपन, 227 पर क्लोज और 2017 में 74 पर ओपन हुई और 266 पर क्लोज हुई।
- मद्रास की इलेक्ट्रिकल ब्रांच की तरफ विद्यार्थियों का रुझान बढ़ा है। 2016 में यह 189 पर ओपन हुई थी जबकि 2017 में यह 40 से ओपन हुई। 

 

ऑल इंडिया 60 रैंक तक मिलेगी पसंदीदा सीट 
- एक्सपर्ट अज्ञात गुप्ता का कहना है कि इस बार भी आईआईटी बॉम्बे में सीएस ब्रांच में 55 से 60 एआईआर वालों को ही एडमिशन मिल सकेगा। कई बार टॉप-50 में आया प्रतिभागी दिल्ली का है। ऐसे में वह दिल्ली आईआईटी लेता है, जबकि उसके नीचे रैंक वाले को बॉम्बे मिल जाता है। 


हमारे ट्रिपल आईटीएम की ब्रांच की भी डिमांड 
- आईआईटी में एडवांस्ड के स्कोर पर एडमिशन मिलता है जबकि ट्रिपल आईटी में जेईई मेन के स्कोर पर। बात एबीवी ट्रिपल आईटीएम ग्वालियर की करें तो यहां की इंटीग्रेटेड बीटेक 6 हजार रैंक तक मिल सकेगी।
- इसके अलावा कम्प्यूटर साइंस इंजीनियरिंग में सीट 8 हजार रैंक तक मिल सकेगी। प्रदेश में भोपाल और जबलपुर के मुकाबले ग्वालियर ट्रिपल आईटीएम की ब्रांच की डिमांड ज्यादा है। 

 

3 साल में कुछ ऐसे बदली पसंद 

सीएस 

 

 

आईआईटी

2015

2016

2017 

बॉम्बे 1-59  1-60

1-62

दिल्ली 31-102 24-115

3-104

कानपुर 73-207 113-230

107-206

मद्रास

80-186 62-173 26-177

खड़गपुर

213-300 181-286 160-262

इलेक्ट्रिकल 

 

आईआईटी

2015 2016 2017

बॉम्बे 

9-240 22-227 74-266

दिल्ली 

151-329 80-403 226-416

कानपुर

208-674 248-798 354-816

मद्रास

61-605 189-606 40-641

खड़गपुर 

687-1114 138-1190 444-1174

सिविल 

 

आईआईटी

2015 2016 2017

बॉम्बे

570-1934 897-2251 1046-2308

दिल्ली 

1045-2138 767-2618 1341-2869

कानपुर

1927-2674 1571-3333 1718-3533
मद्रास 1853-2905 1005-3703

2261-3632

खड़गपुर 

2101-3154 2728-3788 2329-4071


 

Next News

IIT-JEE Advanced: आज आएगी आंसर-की, 128 से नीचे जा सकता है कटऑफ

एक्सपर्ट्स के अनुसार टफ पेपर और गर्ल्स के लिए बढ़ाई गई 779 सीट्स के कारण इस साल कटऑफ पिछले साल के मुकाबले कम होने की संभावना है।

आईआईटी बॉम्बे की सीएस, मद्रास की इलेक्ट्रिकल ब्रांच का रहेगा क्रेज

ज्वाइंट सीट एलोकेशन अथॉरिटी (जोसा) की पिछले तीन साल की रिपोर्ट के आधार पर शहर के एक्सपर्ट का एनालिसिस

Array ( )