सरकारी स्कूलों की होगी एकेडमिक ग्रेडिंग, हर स्कूल को मिलेगा टैब : सीएम

फाइव व फोर स्टार रैंकिंग वाले स्कूलों को स्वच्छता पुरस्कार में मिले 12 करोड़

एजुकेशन डेस्क, रांची। मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा है कि सभी सरकारी स्कूलों की ग्रेडिंग होगी। उन्होंने इसके लिए ए, बी, सी कैटेगरी बनाने का भी सुझाव दिया। कहा कि जो स्कूल ए ग्रेड में शामिल हों, वे अपने स्तर को बनाए रखें। बी ग्रेड वाले ए ग्रेड में आने का प्रयास करें। इसी प्रकार सी ग्रेड वाले अपनी स्थिति सुधारें। उन्होंने जिला शिक्षा अधीक्षकों को फिल्ड विजिट करने का निर्देश देते हुए कहा कि बच्चों को अच्छी शिक्षा मिले, यह उनकी जिम्मेवदारी है। वे बुधवार को जैक के ऑडिटोरियम में स्कूल स्वच्छता पुरस्कार समारोह में बोल रहे थे। कार्यक्रम स्कूली शिक्षा एवं साक्षरता विभाग, पेयजल एवं स्वच्छता विभाग व पंचायती राज विभाग द्वारा यूनिसेफ के सहयोग से आयोजित था। मौके पर जैक चेयरमैन डॉ. अरविंद प्रसाद सिंह, सचिव रजनीकांत वर्मा और अवार्ड पाने वाले शिक्षक मौजूद थे। 

हर स्कूल को दिया जाएगा टैब

- सीएम ने कहा कि अफसर स्कूलों में पढ़ाई के अलावा स्वच्छता पर भी ध्यान दें। स्कूल के प्राचार्य व शिक्षक अपने स्कूल को साफ-सुधरा रखने के लिए थोड़ा-थोड़ा आर्थिक योगदान भी दें। 2016 में जहां 09 स्कूल फाइव स्टार प्राप्त थे, इस वर्ष संख्या 212 हो गई है। 
- फोर स्टार और थ्री स्टार पाने वाले स्कूलों की संख्या भी बढ़ी है। हर स्कूल को टैब उपलब्ध कराया जाएगा। 


 सरकारी स्कूलों में भी उच्च मानक स्थापित करें 

- सीएम ने कहा कि राज्य में पहली बार फाइव और फोर स्टार रैंकिंग वाले स्कूलों को स्वच्छता पुरस्कार के लिए बजट में 12 करोड़ रुपए का प्रावधान किया गया था। 
- राज्य सरकार प्राइवेट स्कूलों की तर्ज पर सरकारी स्कूलों में भी उच्च मानक स्थापित करने के लिए लगातार प्रयास कर रही है। इसमें अिधकारी सहयोग करें। 
- सीएम ने राज्य के फाइव स्टार रैंकिंग प्राप्त राज्य के 212 स्कूलों को एक-एक लाख रुपए और फोर स्टार रैंकिंग वाले 2008 स्कूलों को 50-50 हजार रुपए पुरस्कार स्वरूप प्रदान किया। 
- स्वच्छता में उत्कृष्ट प्रदर्शन के लिए योगदा सत्संग हाईस्कूल को बुधवार को जैक सभागार में 1 लाख रुपए देकर पुरस्कृत किया गया। 

 

यह है स्कूलों की रैंकिंग का आधार 

- हैंड वाशिंग यूनिट, स्वच्छ पेयजल व्यवस्था, एमडीएम शेड, सोक पिट, रेन वाटर हार्वेस्टिंग और डस्टबिन सुविधा के आधार पर ग्रेडिंग और रैंकिंग की गई है। 
- स्कूलों में प्रशिक्षित शिक्षकों, बाल संसद के सदस्यों, बाल पत्रकारों की उपस्थिति आदि के आधार पर रैंकिंग की जाती है। 

 

राष्ट्रीय पुरस्कार के लिए 40 स्कूल नामित 

- शिक्षा मंत्री स्कूली शिक्षा एवं साक्षरता मंत्री डॉ. नीरा यादव ने कहा कि 2016-17 की अपेक्षा इस वर्ष स्वच्छता की रैंकिंग में स्कूलों ने काफी प्रगति की है।
- 212 स्कूलों ने जहां 5 स्टार रैंकिंग प्राप्त किया है। 212 फाइव स्टार प्राप्त स्कूलों में से 40 स्कूलों को राष्ट्रीय स्तर पर इसी अवार्ड के लिए नामित किया गया है। 

Next News

नवोदय विद्यालय में 9th क्लास के लिए एंट्रेंस एग्जाम 19 मई को, ऐसे मिलेगा एडमिट कार्ड

नवोदय विद्यालय के एंट्रेंस एग्जाम के लिए ऑनलाइन और ऑफलाइन एडमिट कार्ड लिए जा सकते हैं।

MHRD / पहली और दूसरी कक्षा के बच्चों को नहीं मिलेगा होमवर्क, नई गाइडलाइन तैयार

केंद्र सरकार ने सभी राज्य सरकारों को गाइडलाइन तैयार कर तत्काल लागू करने का दिया निर्देश।

Array ( )