ग्लोबल रैंकिंग 2020 / टॉप 300 विश्वविद्यालयों में भारत का एक भी नहीं, 500 में भारत के 06

लगातार चौथी बार लंदन स्थित ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी पहले स्थान पर है

एजुकेशन डेस्क। टाइम्स हायर एजुकेशन ने बुधवार को वर्ल्ड यूनिवर्सिटी रैंकिंग 2020 जारी की। 300 विश्वविद्यालयों सूची में भारत का एक भी विश्वविद्यालय जगह नहीं बना पाया है। इस बार शीर्ष 500 विश्वविद्यालयों की सूची में भारत के 06 संस्थानों को जगह मिली है। जिसमें आईआईटी रोपड़, इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ साइंस बेंगलुरु को समान रैंक पर रखा गया है। आईआईटी रोपड़ ने पहली बार में ही टॉप 350 में जगह बनाई है। साल 2018 में जहां भारत के 49 संस्‍थानों को इस सूची में स्‍थान म‍िला था, वहीं इस बार 56 ने जगह बनाई है।  

लगातार चौथी बार ऑक्सफोर्ड पहले स्थान पर 
इस सूची में लगातार चौथी बार लंदन स्थित ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी ने अपना शीर्ष स्थान बरकरार रखा है। एशिया की बात करें तो इस सूची में चीन के दो विश्वविद्यालय की जगह मिली है। इनमें सिंघुआ यूनिवर्सिटी को 23वीं रैंकिंग मिली है वहीं पीकिंग विश्वविद्यालय को 24वीं रैंकिंग मिली है। टाईम्स हायर एजुकेशन की ग्लोबल यूनिवर्सिटी रैंकिंग में कुल 92 देशों के 1300 विश्वविद्यालयों ने भाग लिया था। 10 विश्वविद्यालय ऐसे हैं जिन्होंने पहली बार इसमें हिस्सा लिया और सूची में जगह बनाई।

रैकिंग में खिसके भारतीय विश्वविद्यालय
आईआईएससी बेंगलुरु की रैकिंग में गिरावट आई है। पिछली बार शीर्ष 300 में शामिल ये संस्थान इस बार शीर्ष 350 में खिसक गया है। इसके पीछे का कारण शोध का माहौल, पढ़ाई का माहौल और गुणवत्ता, औद्योगिक आय के पैमानों में सुधारों पर जोर नहीं देना है। आईआईएससी के अलावा 6 और भारतीय विश्वविद्यालयों की रैकिंग में भी इस साल गिरावट आई है। हालांकि आईआईटी दिल्ली, आईआईटी खड़गपुर और जामिया मिल्लिया समेत कुछ अन्य विश्वविद्यालयों की सूची में भी सुधार हुआ है।

टॉप 500 विश्वविद्यालयों में 6 भारत के  

  1. इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ साइंस, बेंगलुरु 
  2. आईआईटी, रोपड़
  3. आईआईटी, इंदौर
  4. अईआईटी, मुंबई
  5. आईआईटी, दिल्ली
  6. आईआईटी, खड़गपुर

लिस्ट देखने के लिए इस लिंक पर क्लिक करें

Next News

बदलाव / 22 साल में कांग्रेस शासन में चौथी बार राजस्थान में बदलेगा सिलेबस

सरकार बदलते ही बदलता है सिलेबस, भाजपा भी दो बार बदल चुकी है

परीक्षाएं आयोजित कराने वाली एजेंसियों द्वारा वसूली जा रही फीस के तय किए जाएं मापदंड

भर्ती सहित विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए एजेंसियां वसूलती हैं अलग-अलग फीस,यदि परीक्षा निरस्त हो जाए तो फीस लौटाने का कोई नियम ही नही

Array ( )