शूटिंग में मुकाम स्थापित करने के लिए मां से मिला प्रोत्साहन- अंजुम मोदगिल

आईएसएसएफ वर्ल्डकप फाइनल में जगह बना चुकीं अंजुम मोदगिल की उम्र केवल 25 वर्ष है

First Person। शूटिंग में मेरी रुचि बचपन से ही थी और आज मैं जिस मुकाम पर हूं इसका श्रेय मेरी मां को जाता है। कॉलेज के दौरान खुद शूटर रह चुकीं मेरी मां ने मुझे हमेशा गेम्स खेलने के लिए प्रोत्साहित किया। इसी वजह से मैं हमेशा गेम्स में एक्टिव रही हूं और शूटिंग में मेरी खास रुचि रही है। पढ़ाई के दौरान एनसीसी टूर्नामेंट में मुझे शूटिंग में अपना टैलेंट दिखाने का मौका मिला और यहीं से मैंने इस स्पोर्ट को प्रोफेशनल नजर से देखना शुरू किया। लगभग दो सालों तक कॉम्पिटीशन्स में भाग लेने के बाद जब मैं नेशनल सर्किट में अच्छा कर रही थी, तब मुझे यह लगा कि इस हॉबी के आगे ले जाना चाहिए। जब देश के लिए खेलने का मौका मिला, तो मैंने इस खेल को और भी ज्यादा गंभीरता से लेना शुरू कर दिया।

स्ट्रेस फ्री रहकर खेल पर किया फोकस
किसी भी खिलाड़ी के लिए देश के लिए खेलना गर्व का विषय होता है। मैं समझती हूं कि खेल में रुचि लेने के साथ-साथ आपको दूसरी चीजों में भी इंटरेस्ट लेना चाहिए जो आपको खेल का महत्वसिखा सके और नई ऊर्जा दे सके। यही कारण था कि मैं एक साथ बहुत-से काम करती थी। मैं पढ़ाई करती थी, मैंने स्पोर्ट्स साइकोलॉजी में एमए की पढ़ाई की। इससे मुझे खेल को समझने में मदद मिली। दरअसल शूटिंग में बहुत फोकस की जरूरत होती है। इसके लिए जरूरी है कि आप कुछ ऐसा करें जो आपके दिमाग को एकदम स्ट्रेस फ्री बना दे। पढ़ाई करने से मुझे वह ब्रेक मिलता था जो खेल में फोकस करने में मदद करता था।

खेल के साथ जारी रखी पढ़ाई भी
अपने काम में ध्यान लगाने के लिए यह भी जरूरी है कि आपकी अपने परिवार और कोच से सही बातचीत होती रहे। उदाहरण के तौर पर एक तरफ मेरी मां मुझे इस खेल के लिए प्रोत्साहित कर रही थीं, वहीं मेरे पिता चाहते थे कि मैं पढ़ाई में अपना ध्यान लगाऊं। उनको लगता था कि मैं बहुत कुछ एक साथ करती हूं जो ठीक नहीं है। मैंने उन्हें विश्वास दिलाया कि मैं कभी भी शूटिंग के लिए अपनी पढ़ाई को बीच में नहीं रोकूंगी। इस तरह की बातचीत आपको बेहतर प्रदर्शन करने में मदद करती है।
 

Next News

काम से इतना प्यार करती हूं कि वह काम ही नहीं लगता : शैफाली शाह

फिल्म रंगीला से शुरुआत करने वाली यह अभिनेत्री नेटफ्लिक्स की मशहूर सीरीज में नजर आ रही है

किताबों से ज्यादा फेलियर्स से सीखा है : सुमित व्यास

एक्टर के तौर पर फिल्मों, टीवी शो और वेब सीरीज में खास पहचान बना चुके है

Array ( )