सीएलसी/ डॉक्यूमेंट वेरिफिकेशन के लिए आखिरी तारीख 14 सितंबर

अब तक 200 से अधिक स्टूडेंट सत्यापन करा चुके हैं।

एजुकेशन डेस्क। कॉलेज लेवल काउंसलिंग (सीएलसी) में एडमिशन लेने वाले स्टूडेंट्स के पास दस्तावेजों का सत्यापन कराने के लिए शनिवार तक का समय है। बैचलर ऑफ फार्मेसी, डिप्लोमा ऑफ फार्मेसी, डिप्लोमा इंजीनियरिंग सहित विभिन्न यूजी कोर्सेस और पीजी कोर्सेस मास्टर ऑफ कम्प्यूटर एप्लीकेशन, मास्टर ऑफ बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन में 15 अगस्त तक एडमिशन दिए गए। वहीं सत्यापन के लिए 31 अगस्त तक समय दिया गया था, लेकिन इस दौरान 2197 स्टूडेंट्स सत्यापन नहीं करा सके। इसलिए 6 सितंबर से इन्हें एक और मौका दिया गया है।

इस दौरान अब तक 200 से अधिक स्टूडेंट सत्यापन करा चुके हैं। इस बार अंतिम तारीख 14 सिंतबर तय की गई है। वहीं विभाग ने स्पष्ट किया है कि स्टूडेंट्स को दस्तावेज के सत्यापन के लिए अंतिम अवसर दिया गया है। एडमिशन के बाद सत्यापन करा लेने वाले स्टूडेंट्स की लिस्ट विश्वविद्यालयों को भेजी जानी है। ताकि उनका नामांकन हो सके। किसी भी स्थिति में अब सत्यापन तिथियों को बढ़ाया नहीं जाएगा।

भोपाल के उच्च शिक्षा विभाग के सरकारी और निजी कॉलेज में सत्र 2019-20 के तहत एडमिशन के लिए सीएलसी का सेकंड राउंड गुरुवार को पूरा हो गया। इसके चलते पहले आओ-पहले पाओ के आधार पर एडमिशन प्रक्रिया चली। वहीं, अब तक आयोजित सभी राउंड में बीए, बीएससी, बीकॉम, बीसीए में 4 लाख 24 हजार 315 दाखिले हुए हैं। वहीं सीएलसी में पीजी में 46 हजार 951 एडमिशन हुए हैं।

5.33 लाख पहुंचा एडमिशन का आंकड़ा : अब तक यूजी-पीजी में 5 लाख 33 हजार 736 छात्रों ने दाखिला लिया है। इसमें यूजी में 4 लाख 24 हजार 315 और पीजी में 1 लाख 9 हजार 391 एडमिशन हो चुके हैं। इस सत्र में यूजी-पीजी में ईडब्ल्यूएस सहित सीटों की संख्या करीब 10 लाख 58 हजार 768 है। ऐसे में अभी भी प्रदेशभर के सरकारी और निजी कॉलेजों में 5 लाख 25 हजार 31 सीटें खाली हैं।

Next News

परीक्षाएं आयोजित कराने वाली एजेंसियों द्वारा वसूली जा रही फीस के तय किए जाएं मापदंड

भर्ती सहित विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए एजेंसियां वसूलती हैं अलग-अलग फीस,यदि परीक्षा निरस्त हो जाए तो फीस लौटाने का कोई नियम ही नही

मध्य प्रदेश / हिंदी विवि में गेस्ट फैकल्टी से पद भरने पर दूसरे संस्थानों में भर्ती पर होगा असर

नए अवसर हाेंगे कम} राज्यपाल व उच्च शिक्षा मंत्री के आश्वासन के बाद शुरू हुई नई बहस

Array ( )