CBSE / 10वीं का मैथ्स होगा आसान, 2020 से दो स्तरों में होगी गणित की परीक्षा

दो स्तर- मैथमेटिक्स स्टैंडर्ड और मैथमेटिक्स बेसिक की होंगी परीक्षाएं

एजुकेशन डेस्क। केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) 10वीं के छात्रों में गणित की परीक्षा का तनाव कम करने के लिए अहम बदलाव करने जा रहा है। सीबीएसई 2020 से 10वीं की गणित की परीक्षाएं दो स्तरों पर कराएगा। सीबीएसई के सर्कुलर के मुताबिक, ये दो स्तर मैथमेटिक्स स्टैंडर्ड और मैथमेटिक्स बेसिक होंगे। स्टैंडर्ड का पाठ्यक्रम मौजूदा स्तर का ही होगा, जबकि बेसिक को आसान बनाया जाएगा।

सीबीएसई के मुताबिक, यह सभी को पता है कि सबसे कठिन विषय 'गणित' की परीक्षा के पहले या उसके दौरान छात्रों को सबसे अधिक तनाव रहता है। इसी को ध्यान में रखते हुए बोर्ड ने दो स्तरों पर परीक्षा कराने का फैसला किया है, मार्च 2020 सत्र के बाद लागू हो जाएगा। 

पाठ्यक्रम, क्लासेस, आंतरिक परीक्षाएं होंगी एक जैसी
- बोर्ड के मुताबिक, दोनों स्तरों के पाठ्यक्रम, क्लासरूम, आंतरिक परीक्षाएं एक जैसी होंगी, इससे छात्रों को पूरे वर्ष सभी टॉपिक पढ़ने का मौका मिल सकेगा। इसके बाद वे अपनी क्षमताओं के आधार पर फैसला ले सकेंगे कि उन्हें कौन सी परीक्षा में शामिल होना है। हालांकि ये स्तर 9वीं की परीक्षाओं में लागू नहीं होंगे। 

परीक्षा फॉर्म भरते वक्त करना होगा स्तर का चुनाव
- स्टैंडर्ड लेवल उन छात्रों को ध्यान में रखकर बनाया गया है, जो आगे की पढ़ाई गणित विषय के साथ करना चाहते हैं। वहीं, बेसिक स्तर उनके लिए होगा, जो गणित में उच्च शिक्षा हासिल नहीं करना चाहते। छात्र परीक्षा फॉर्म भरते वक्त स्टैंडर्ड या बेसिक मैथ्स में एक का विकल्प चुन सकते हैं। अगर छात्र गणित में फेल हो जाता है तो कंपार्टमेंट परीक्षा में परीक्षा का स्तर बदल सकता है। अगर छात्र ने मैथमेटिक्स बेसिक को चुना है और वो यह एग्जाम पास कर लेता है तो वो अपना स्तर सुधारने के लिए कंपार्टमेंट एग्जाम में मैथमेटिक्स स्टैंडर्ड की परीक्षा दोबारा दे सकता है। 

Next News

AICTE / अब इंजीनियरिंग कॉलेजों से भी कर सकेंगे बीए-बीएससी जैसे कोर्सेस

AICTE ने इंजीनियरिंग कॉलेजों की घटती संख्या को देखते हुए उठाया कदम

सकारी स्कूलों की रिपोर्ट / 8वीं के 56% छत्रों को बेसिक गणित नहीं आती, 27% पढ़ नहीं पाते

प्रथम एनजीओ ने जारी की एनुअल स्टेटस ऑफ एजुकेशन रिपोर्ट-2018

Array ( )