CBSE: रांची के टॉप 36 में 19 डीपीएस, 12 जेवीएम से; अन्य 5 स्कूल से 1-1

साइंस के टॉप 16 में से 9, कॉमर्स टॉप 11 में 9 और आर्ट्स की सभी टॉप 9 बनीं लड़कियां 

एजुकेशन डेस्क, रांची। सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकंडरी एजुकेशन (सीबीएसई) 12वीं का रिजल्ट शनिवार, 26 मई को जारी हुआ। इस बार भी बोर्ड परीक्षा में लड़कियां हर विषय में लड़कों से आगे रहीं। देश में भी और रांची में भी। साइंस में रांची के टॉप 8 में कुल 16 स्टूडेंट्स रहे। जबकि कॉमर्स के टॉप 8 में 11 और आर्ट्स टॉप 8 में 9 स्टूडेंट्स ने जगह बनाई। यानी टॉप 8 के कुल मिलाकर 36 स्टूडेंट्स। इन 36 में से 19 डीपीएस, 12 जेवीएम श्यामली से रहे। इनके साथ डीएवी कडरू (कपिलदेव), डीएवी हेहल, ऑक्सफोर्ड पब्लिक, ब्रिजफोर्ड और मनन विद्या मंदिर से 1-1 स्टूडेंट्स टॉपर्स की इस सूचि में जगह बनाने में कामयाब रहे।
 

साइंस के टॉप 16 में से 9, कॉमर्स टॉप 11 में 9 और आर्ट्स की सभी टॉप 9 बनीं लड़कियां 

ये हैं तीनों संकायों में रांची के टॉपर्स 

साइंस 

नाम

स्कूल

परसेंटेज

प्रखर कुमार

डीपीएस

98 %

शिखा कुमारी

डीपीएस

97.4% 

स्वस्ति मल्लिक

डीपीएस

97.2 %

रितुल गर्ग

डीपीएस

97.2 %

ऋतिका पांडेय

डीपीएस

97.2 %

भार्गवी झा

डीपीएस

97 %

हर्ष शरण

डीपीएस

96.8 %

अक्षत सरावगी

डीपीएस

96.6 % 

श्वेता सिंह

डीपीएस

96.6 %


कॉमर्स 

नाम 

स्कूल

परसेंटेज

आरएन शिवानी

डीएवी कडरू

97.2 %

अनिशा कुमारी

ऑक्सफोर्ड

97 %

सोनम डीपीएस

डीपीएस

96.8 % 

अनुषा केडिया

ब्रिजफोर्ड

96.4 %

खुशी सराफ

डीपीएस

96.2 %

रितु गोयंका

डीपीएस

96.2 %

अदिति अग्रवाल

डीपीएस

96 %

अंजली अग्रवाल

डीपीएस

95.8 %

आकृति सहाय

डीपीएस

95.6 %

 

आर्ट्स 

नाम 

स्कूल

परसेंटेज

मधुमिता

जेवीएम

96.2 %

आयुषी पोद्दार

जेवीएम

96 %

सुकृति पांडेय

जेवीएम

95.8 %

तहसीन फातिमा

जेवीएम

95.8 %

लोकाव्या भार्गवी

जेवीएम

95 %

श्रृंखला

जेवीएम

94.6 %

रिया कुमारी

जेवीएम

94.4 %

श्रृष्टि चौधरी

जेवीएम

94.2 %

श्वेता कुमारी

हेहल

93.8 %

 

रिजल्ट को लेकर परेशानी हो, तो 1800118004 पर कॉल करें
- सीबीएसई की पोस्ट-रिजल्ट काउंसलिंग शनिवार से ही शुरू कर दी गई है। यह 9 जून तक रोज सुबह 8 बजे से रात 10 बजे तक चलेगी।
- स्टूडेंट्स इस बीच कभी भी टोल-फ्री नंबर 1800118004 पर कॉल कर एक्सपर्ट से बात कर सकते हैं।
- देश-विदेश से कुल 69 प्रिंसिपल्स, ट्रेंड काउंसलर्स और स्पेशल एजुकेटर्स की टीम स्टूडेंट्स की मदद के लिए मौजूद रहेगी। 

रिजल्ट खराब होने से परेशान न हों, इससे भविष्य का फैसला नहीं होता
- कई स्टूडेंट्स के रिजल्ट खराब भी हुए। कुछ बच्चे स्कूल पहुंचे और टॉपर से मिले। टॉपर ने उनका हौसला बढ़ाया और अपनी पढ़ाई के तरीके बताए, ताकि आगे उन्हें सफलता
मिले। 
- टॉपर ने कहा कि पैरेंट्स भी ऐसे बच्चों का हौसला बढ़ाएं। उनका साथ दें। डांट-फटकार न करें। क्योंकि, एक अपनी सफलता पर रिजल्ट किसी के भविष्य का फैसला नहीं करता।

 

 

 

 

Next News

CBSE: 7 साल में ऐसा रहा लड़के-लड़कियों का पासिंग परसेंटेज,

इस साल लड़कियों का पासिंग परसेंटेज जहां 88.31% रहा वहीं 78.99% लड़के पास हुए।

CBSE: रीवैल्यूएशन के बाद 50% से ज्यादा स्टूडेंट्स के मार्क्स बढ़े

कुल 9,111 स्टूडेंट्स ने अपने मार्क्स कम आने की वजह से री-वैल्यूएशन के लिए अप्लाय किया था।

Array ( )