कैट आंसर-की जारी: एक्सपर्ट बोले- 10 साल का सबसे टफ क्वांटिटेटिव सेक्शन

स्टूडेंट्स आईआईएम कोलकाता की वेबसाइट www.iimcat.ac.in पर चेक कर सकते हैं आंसर की।

एजुकेशन डेस्क। इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट (आईआईएम) कोलकाता ने कॉमन एडमिशन टेस्‍ट (कैट2018) की आंसर की जारी कर दी है। जिन कैंडिडेट्स ने यह एग्जाम दिया था, वे आईआईएम कोलकाता की ऑफीशियल वेबसाइट www.iimcat.ac.in पर जाकर इसकी आंसर-की चेक कर सकते हैं। एक्सपर्ट अनिल सावले के मुताबिक, पहले स्लॉट में वर्बल एबिलिटी एंड रीडिंग कॉम्प्रिहेंशन सेक्शन कैट 2017 की तर्ज पर ही था। कुछ मामूली स्ट्रक्चरल बदलाव था, पैराजम्बल्स आसान और करने योग्य थे। सबसे चौंकाने वाली बात यह थी कि, क्वांटिटेटिव एप्टीट्यूड का सेक्शन पिछले 10 सालों में सबसे मुश्किल था। जबकि, डाटा इंटरप्रेटेशन और लॉजिकल रीजनिंग सेक्शन करीब-करीब 2015, 2016, 2017 में हुई कैट परीक्षा की तर्ज पर ही था।

ऑब्जेक्शन शुल्क ~1000 से किया ~1200
- कैट की आंसर-की के साथ ऑब्जेक्शन फॉर्म और क्वेश्चन पेपर का फॉर्मेट कैट की वेबसाइट पर अपलोड किया गया है, ऐसे में यदि किसी एस्पायरेंट्स को आंसर-की में दिए गए किसी जवाब पर ऑब्जेक्शन है, तो वे 10 दिसंबर तक अपनी आपत्ति दर्ज करा सकते हैं। खास बात यह है कि, आंसरकी पर आपत्ति दर्ज करने के लिए शुल्क इस बार 1000 से बढ़ाकर 1200 रुपए कर दिया गया है।

कैट के माध्यम से इन इंस्टीट्यूट्स में मिलेगा एडमिशन
- कैट के रिजल्ट के माध्यम से देश के 20 इंस्टीट्यूट में एडमिशन मिलेगा। इनमें इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट अहमदाबाद, आईआईएम अमृतसर, आईआईएम बेंगलुरू समेत बोधगया, कोलकाता, इंदौर, जम्मू, काशीपुर, कोझीकोड, लखनऊ, नागपुर, रायपुर, रांची, रोहतक, संबलपुर, शिलांग, सिरमौर, तिरुचिरापल्ली, उदयपुर और विशाखापट्टनम के इंस्टीट्यूट शामिल हैं।

सेक्शन वाइज विश्लेषण
- वर्बल एबिलिटी एंड रीडिंग कॉम्प्रिहेंशन : 5-5 नंबर के 4 पैसेज और एक पैसेज 4 नंबर का था। पैराजम्बल्स पिछले साल के मुकाबले इस साल आसान था। 4-5 वाक्य ऐसे थे, जिसके सिक्वेंस के बारे में अभी तय किया जाना बाकी है। ठीक ठीक कोशिश करने वाले कैंडिडेट्स को इस सेक्शन में 20-25, जबकि 90 फीसदी ठीक करने वालों को 95 पर्सेंटाइल मिल सकता है। डाटा इंटरप्रेटेशन एंड लॉजिकल 

रीजनिंग : यह सेक्शन 2015, 2016 और 2017 की तर्ज पर ही था। 

क्वॉन्टिटेटिव एप्टीट्यूड : ज्यामेट्री के साथ अलजेब्रा ने थोड़ा इस बार क्वांटिटेटिव एप्टीट्यूड के सेक्शन को मुश्किल बना दिया था। स्टूडेंट्स ने जितने सवाल वर्बल एबिलिटी एंड रीडिंग कॉम्प्रिहेंशन के सेक्शन में हल किए, उतने क्यूए और डाटा इंटरप्रेटेशन मिलाकर भी नहीं कर पाए।

Next News

CAT Exam / क्वांटिटेटिव सेक्शन में 29 से 31 रह सकता है कटऑफ

इस एग्जाम में भोपाल शहर से करीब 1800 स्टूडेंट्स अपीयर हुए।

Array ( )