क्या आप भी कर रहे हैं स्कॉलरशिप के लिए आवेदन? रखें इन खास बातों का ध्यान

सभी स्कॉलरशिप्स आपकी शैक्षणिक उम्मीदों को पूरा नहीं करती हैं, इसलिए खास स्कॉलरशिप्स को फिल्टर करना चाहिए

एजुकेशन डेस्क। आपकी ड्रीम यूनिवर्सिटीज के लिए स्कॉलरशिप्स, गेटवे का काम करती हैं। महंगी होती शिक्षा के बीच स्कॉलरशिप हासिल कर लेना किसी भी स्टूडेंट के लिए उसके अकादमिक जीवन की बड़ी उपलब्धियों में से एक होता है। यदि आप किसी स्कॉलरशिप के लिए निर्धारित प्रक्रिया में खरे उतरते हैं, तो आप अपनी स्टडी बिना किसी फाइनेंशियल दबाव के पूरी करते हैं और अपनी ग्रोथ में बेहतर तरीके से ध्यान लगा पाते हैं।

हालांकि किसी स्कॉलरशिप के लिए अप्लाई करने के दौरान आपको कुछ खास बातों का ध्यान रखना चाहिए फिर भले ही आप दिल्ली-एनसीआर क्षेत्र के किसी कॉलेज से एमबीए करने के लिए सोच रहे हों, फॉरेन जाकर डॉक्टरेट डिग्री के लिए योजना बना रहे हों या फिर कोई नई भाषा सीखने के लिए कोर्स के लिए प्रयास कर रहे हों।

सबसे पहले फिल्टर करें
- सभी स्कॉलरशिप्स आपकी शैक्षणिक उम्मीदों को पूरा नहीं करती हैं, इसलिए खास स्कॉलरशिप्स को फिल्टर करना चाहिए। इस दौरान यह ध्यान रखें कि किस स्कॉलरशिप्स के तहत आपको ग्रांट में क्या मिलेगा। यह भी देखें कि क्या वे आपके अनुभव के लिए खरी साबित होंगी।

एस्से लिखकर दें जानकारी
- उम्मीदवारी जताने और रुचि प्रदर्शित करने के लिए अपनी राइटिंग स्किल्स को काम में लेते हुए एस्सेतैयार करें। इसमें बड़े या विस्तृत विवरण न देते हुए छोटी-छोटी कहानियां बताएं। यदि आपने किसी स्थिति का सामना किया हो, तो उसके बारे में भी बताएं।

पूरी तरह कर लें जांच
- अधिकतर एप्लिकेशंस पहले स्तर पर ही सिर्फ इसलिए अयोग्य घोषित कर दी जाती हैं, क्योंकि उनमें शेयर किया जाने वाले कंटेंट स्तरहीन होता है। ऐसे में एप्लिकेशन को स्पष्ट शब्दों में तैयार करना और गलतियाें से बचना जरूरी है। एक बार एप्लिकेशन तैयार कर लेने के बाद अच्छे-से प्रूफ रीडिंग करें। इसके लिए आप चाहें, तो किसी एक्सपर्ट की सहायता भी ले सकते हैं।

छोटे स्तर से मिलेंगे मौका
चूंकि बड़े स्तर की स्कॉलरशिप्स के लिए प्रतिस्पर्धा ज्यादा होती है जबकि छोटी स्कॉलरशिप्स को आसानी से क्रैक किया जा सकता है और ये आपको जीआरई, टीओईएफएल जैसी बड़ी स्कॉलरशिप्स के एग्जाम्स के लिए आवश्यक आत्मविश्वास भी प्रदान करती हैं।

पैटर्न के बारे में जानें 
- कोई भी दो स्कॉलरशिप एग्जाम्स या एप्लिकेशंस एक जैसे नहीं होते। आपको क्वेश्चन पैटर्न, प्रतिस्पर्धा के प्रकार, हर साल की कठिनाई का स्तर जैसे जरूरी पैरामीटर्स के आधार पर इनके बारे में अपने स्तर पर ही पता करना होगा। इस तरह आप एग्जाम्स के लिए राय बना पाते हैं।

Next News

करियर रीडिंग/ 12वीं के बाद साइंस के फील्ड में कॅरिअर के कौनसे विकल्प हो सकते हैं?

दैनिक भास्कर के रीडर्स के लिए कॅरिअर काउंसलिंग प्लेटफॉर्म माइंडलर ने यह विशेष क्विज़ तैयार की है

इंडियन स्टेटिस्टिकल सर्विस एग्ज़ाम-2019, जानें किस तरह बेहतर बनाएं स्कोर

रीडर्स के लिए यह जानकारी दे रहे हैं एग्ज़ाम एक्सपर्ट सौरभ दास

Array ( )