क्लैट में जयपुर के अमन फर्स्ट, देवांश सैकंड और अनमोल रहे थर्ड रैंक पर

19 लॉ यूनिवर्सिटीज की 2400 सीटों के लिए हुए क्लैट 2018 के एग्जाम में देशभर के 54 हजार से ज्यादा स्टूडेंट्स ने भाग लिया था

एजुकेशन डेस्क, जयपुर। एनएलयू कोच्चि ने कॉमन लॉ एंट्रेंस टेस्ट (क्लैट) का रिजल्ट गुरुवार को जारी कर दिया। पहली बार टॉप-3 रैंक जयपुर के स्टूडेंट्स ने हासिल की है। ऑल इंडिया फ़र्स्ट रैंक जयपुर के अमन गर्ग ने हासिल की है। सैकंड रैंक पर देवांश कौशिक और थर्ड पर अनमोल गुप्ता रहे हैं। इनके अलावा उमंग अग्रवाल ने 10वीं, हर्षिता गुप्ता ने 11वीं, अक्षत डंगायच ने 16वीं, कुणाल बडेसरा ने 18वीं, अंशुल वत्स ने 24वीं, अनुष्का खंडेलवाल ने 25वीं, स्वास्तिक भारद्वाज ने 42वीं, मन शर्मा ने 44वीं, समीक्षा भार्गव ने 46वीं, मयंक गोयल ने 63वीं, माधव मित्रुका ने 64वीं और आयुष सक्सेना ने ऑल इंडिया 73वीं रैंक हासिल कर टॉप-100 में जगह बनाई है। खास बात यह कि स्टूडेंट्स को फाइनल रिजल्ट में 16 मई को जारी स्कोर कार्ड से ज्यादा अंक मिले हैं। अमन गर्ग को 1.5 अंक, देवांश कौशिक को 1.25 और अनमोल गुप्ता को 0.25 ज्यादा अंक प्राप्त हुए हैं। गौरतलब है कि क्लैट ऑनलाइन में एरर प्रॉब्लम के चलते सुप्रीम कोर्ट में फिर से एग्जाम करवाने की गुहार लगाई थी। कोर्ट ने गुहार को नहीं मानते हुए रिजल्ट जारी करने के आदेश दे दिए। टॉप-100 में से 16 रैंक अकेले जयपुर के नाम रहीं। अनामिका मीणा ने एसटी रैंक में थर्ड रैंक हासिल की। 


एनएलयू बेंगलुरू मेरा ड्रीम है : अमन गर्ग

- क्लैट में 159 मार्क्स हासिल कर इंडिया लेवल पर फ़र्स्ट रैंक सिक्योर करने वाले अमन गर्ग ने बताया, पापा अरुण गर्ग स्कूल में भी टॉपर थे और आरपीएसी में भी टॉप किया था। मैंने देखा है कि पापा कैसे अपने सपनों के लिए मेहनत करते हैं। उनकी यही बात मुझे इंस्पायर करती है कि अपने सपनों का पीछा पूरी ईमानदारी से करो। बोर्ड होने के बाद मेरे पास क्लैट के लिए 90 दिन बचे थे। मैंने इन 90 दिनों के लिए प्लान किया कि जितने ज्यादा मॉक टेस्ट दूंगा, उतना ही खुद की कमियों को सुधार पाऊंगा। इसलिए करीब 80 मॉक टेस्ट दिए। इन मॉक टेस्ट का मैंने एनालिसिस किया और जो कमियां निकलती थीं उनको दोहराता नहीं था। इन मॉक टेस्ट से मेरा टाइम मैनेजमेंट बहुत स्ट्रॉन्ग हो गया। यही वजह है कि टेक्नीकल एरर आने पर भी मैं पेपर को कम टाइम में भी पूरा सॉल्व कर पाया। 

तैयारी में यूपीएससी बुक्स बेहतर : देवांश कौशिक 

- इंडिया लेवल पर सैकंड रैंक हासिल करने वाले देवांश कौशिक ने बताया कि उनका टार्गेट यूपीएससी और ज्युडिशियरी में कॅरियर बनाना है। क्लैट क्रेक करने के लिए लीगल और जनरल नॉलेज डिसाइडिंग होते हैं। मैंने इसके लिए डेप्थ स्टडी की। स्टेटिक जीके के लिए यूपीएससी की बुक्स रेफर कीं। देवांश ने 157.5 मार्क्स हासिल किए हैं। 

पहली बार एनएलयू रायपुर सलेक्शन का ड्रॉप करने का प्रेशर था : अनमोल गुप्ता 

- अनमोल कहते हैं, क्लैट में बेहतर परफॉर्म करने के लिए मैंने 12वीं बोर्ड को ड्रॉप किया। क्योंकि पिछले साल मैंने केवल एक महीने की तैयारी के आधार पर क्लैट क्रेक कर लिया था। मुझे रायपुर की एनएलयू मिल गई थी। इससे मेरा कॉन्फिडेंस बढ़ा और मैंने 12वीं को ड्रॉप कर फिर से क्लैट करने का मन बनाया। एक्स्ट्रा टाइम किसी को नहीं मिला, पर मैंने पेपर पूरा सॉल्व कर लिया। इसका नतीजा है कि मैं 157.5 स्कोर कर पाया। 
क्लैट परीक्षा में प्रथम स्थान पाने वाले अमन गर्ग अपने माता-पिता और बहन के साथ। 


टॉप थ्री यूनिवर्सिटीज में 250 रैंक तक ही एडमिशन 

- एक्सपर्ट्स के अनुसार देश की टॉप थ्री लॉ यूनिवर्सिटी में 130 रैंक तक हासिल करने वालों को ही एडमिशन मिलने की उम्मीद है। 
- बैंगलोर की लॉ यूनिवर्सिटी में टॉप 65, हैदराबाद में 130 और कोलकाता यूनिवर्सिटी में देशभर में 250वीं रैंक हासिल करने वालों को एडमिशन मिलने की संभावना है। 
- एचएनएलयू देशभर में छठवें स्थान पर माना जाता है। इसमें जनरल कैटेगिरी के स्टूडेंट्स को 100 मार्क्स और अदर कैटेगिरी के स्टूडेंट्स को कम मार्क्स में भी एडमिशन मिल जाएगा। 

काफी विवादों में रहा एग्जाम 

- देशभर में इस साल 54 हजार छात्रों ने क्लैट का पेपर दिया था। 
- एग्जाम के बाद ये काफी विवादों में रहा। क्लैट में गड़बड़ी को लेकर 251 छात्रों ने याचिका दायर की थी। उनका आरोप था कि परीक्षा के दौरान कई बार ब्लैंक स्क्रीन सामने आई। 
- कई बार हैंगिंग/क्रैशिंग/रुकावट/पावर कट की समस्याएं रहीं, लेकिन इस दौरान टेस्ट टाइमर चलता रहा। 
- ऑनलाइन हुए इस एग्जाम में कुछ जगहों पर स्क्रीन पर क्वेश्चन पेपर ही दिखाई नहीं दिया। 

Next News

क्लैट 2018 में AIR-40 के साथ प्रखर पिपरइया बने सिटी टॉपर

सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद प्री-शेड्यूल के अनुसार जारी हुआ क्लैट का रिजल्ट, राजधानी से शामिल हुए थे 3000 स्टूडेंट्स

क्लैट टॉपर्स की बेंगलुरू और नागपुर में एडमिशन की राह आसान

एक्सपर्ट के अनुमान के मुताबिक इस सेशन में एनएलयू बेंगलुरू की कटऑफ 135 से 138 के बीच तो नलसार हैदराबाद की 130 से 135 तक रहने की उम्मीद

Array ( )