AIIMS: सेकेंड शिफ्ट का एग्जाम शुरू, 807 सीटों पर मिलेगा एडमिशन

AIIMS का एग्जाम दो शिफ्ट में रखा गया है। पहली शिफ्ट सुबह 9 से 12:30 बजे तक होगी, जबकि दूसरी शिफ्ट दोपहर 3 बजे से शाम 6:30 बजे तक रहेगी।

एजुकेशन डेस्क, नई दिल्ली। ऑल इंडिया इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेस (AIIMS) में एमबीबीएस कोर्स के लिए दो दिन एग्जाम होना है। रविवार (27 मई) को दूसरें दिन है जो शूरू हो चुका है। पहला एग्जाम शनिवार को हो चुका है। एग्जाम दो शिफ्टों में होगा जिसमें मॉर्निंग शिफ्ट 9:00 से 12:30 बजे और दोपहर शिफ्ट 3:00 से शाम 6:30 बजे की है। इस एग्जाम के लिए देशभर में 171 सेंटर्स बनाए गए हैं। इसके जरिए देशभर के AIIMS की 807 सीटों पर एडमिशन दिया जाएगा। इस एग्जाम में लगभग 2 लाख से ज्यादा लोग कैंडिडेट्स शामिल हो रहे हैं, जिसका मतलब ये हुआ कि एमबीबीएस कोर्स की एक सीट पर 248 कैंडिडेट्स की दावेदारी होगी।

दो शिफ्ट में होगा एग्जाम

- एम्स एमबीबीएस 2018 की प्रवेश परीक्षा ऑनलाइन आयोजित की जाएगी, कंप्यूटर आधारित टेस्ट (सीबीटी) के रूप में यह एग्जाम लिया जाएगा। एग्जाम 27 और 28 मई को एम्स द्वारा लिया जाएगा। 
- एग्जाम को दो शिफ्ट में रखा गया है। मॉर्निंग शिफ्ट 9:00 से 12:30 बजे और दोपहर शिफ्ट 3:00 से शाम 6:30 बजे की है। एम्स परीक्षा देश भर के 171 सेंटर्स में आयोजित की जाएगी। 

एग्जाम के जरिए मिलेगा एडमिशन

- मेडिकल के छात्रों के लिए एम्स हर साल ऑल इंडिया लेवल पर MBBS कोर्स एंट्रेंस एग्‍जाम कंडक्‍ट करता है। 
- इस एग्जाम से उम्मीदवारों को दिल्ली, पटना, भोपाल, जोधपुर, भुवनेश्वर, ऋषिकेश, रायपुर, गुंटुर और नागपुर कैंपस में एडमिशन दिया जाता है। 

AIIMS ने जारी की ये गाइडलाइंस

- AIIMS ने साफ किया है कि एडमिड कार्ड में जो रिपोर्टिंग टाइम दिया है, उसी के अनुसार सेंटर्स पर रिपोर्ट करें। रिपोर्टिंग टाइम क्लोज होने के बाद किसी भी स्टूडेंट्स को एंट्री नहीं दी जाएगी।
- फिजिकल डिसएबिलिटी वाले कैंडिडेट्स एग्जाम सेंटर्स पर जल्दी रिपोर्ट करें।
- कैंडिडेट्स को अपने साथ एडमिट कार्ड और वैलिड फोटो आईडी प्रूफ की ओरिजनल कॉपी ही ले जानी है। 
- हालांकि एग्जाम के लिए AIIMS ने किसी तरह का ड्रेस कोड जारी नहीं किया है, लेकिन क्लिप, बैंड, हैट, कैप, स्कार्फ, गॉगल, थिक सोल फुटवियर और बड़ी बटन वाली शर्ट-टीशर्ट पहनकर आने पर मनाही है।
- साथ ही किसी भी तरह की जूलरी पहनने पर पाबंदी है। इसके अलावा मोबाइल फोन, रिस्टवॉच या कोई भी इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस लाना है। इसके साथ ही पेन, पेपर, बुक, बॉटल आदि लाने पर भी पाबंदी है।

ऐसे भरी जाएंगी सीटें 

- ये सभी सीटें इंटर कंबर्टेबल हैं अर्थात ओपन राउंड में विभिन्न वर्गों के लिए आरक्षित सीटों पर योग्य उम्मीदवार नहीं मिलने पर ये सीटें सामान्य वर्ग को स्थानांतरित कर दी जाती है।
- एम्स-2018 का एग्जाम परिणाम 18 जून को घोषित होगा। 2017 में ऑल इंडिया रैंक 1500 तक के स्टूडेंट्स को एम्स में एडमिशन मिला था। 
- प्रत्येक साल की स्थिति को देखते हुए 2018 में ऑल इंडिया रैंक 1300-1400 तक के स्टूडेंट्स को एम्स में एडमिशन मिलने की संभावना है। 

807 सीट्स के लिए होगा एग्जाम

- एम्स एमबीबीएस 2018 प्रवेश परीक्षा के लिए उम्मीदवारों को नौ अलग-अलग एम्स संस्थानों में 807 सीटों के लिए एग्जाम लिया जा रहा है।

कॉलेज सीट्स
एम्स दिल्ली 107
एम्स भोपाल 100
एम्स भुवनेश्वर 100
एम्स जोधपुर 100
एम्स पटना 100
एम्स रायपुर 100
एम्स ऋषिकेश 100
एम्स नागपुर 50
एम्स गुंटूर 50

कितनी है आरक्षित सीटें

- एम्स में सामान्य वर्ग के लिए 400, अन्य पिछड़ा वर्ग के लिए 215, एससी वर्ग के लिए 119, एसटी वर्ग के लिए 64 तथा पीएच वर्ग के लिए 40 सीटें आरक्षित है हालांकि ओपन राउंड में यह सभी सीटें इंटर कंवर्टेबल है यानी कि एससी, एसटी व ओबीसी वर्ग की सीटों पर योग्य उम्मीदवार नहीं मिलने पर सामान्य वर्ग को स्थानांतरित कर दी जाती है।

18 जून को आएगा रिजल्ट, काउंसलिंग 3 जुलाई से

- AIIMS में एमबीबीएस कोर्स के लिए हो रहे एंट्रेंस एग्जाम का रिजल्ट 18 जून को घोषित किया जाएगा। जबकि काउंसलिंग 3 जुलाई से शुरू होगी।
- काउंसलिंग का पहला चरण 3 से 6 जुलाई, दूसरा चरण 2 अगस्त से और तीसरा चरण 4 सितंबर को होगी।
- इसके बाद ओपन काउंसलिंग 27 सितंबर से शुरू होगी। 

Next News

NEET 2018: फॉर्म में करेक्शन का आज आखिरी दिन, ऐसे करें ठीक

कैंडिडेट्स अपने फॉर्म में पर्सनल डिटेल्स को करेक्ट कर सकते हैं, हालांकि इसके लिए उन्हें फीस देनी होगी।

NEET: 25 साल से अधिक उम्र वालों का रिजल्ट रोका, सीबीएसई को नोटिस

नीट के लिए जनरल कैटेगिरी के लिए 25 और आरक्षित वर्गों के लिए 30 वर्ष की आयु सीमा तय की गई है।

Array ( )