AIIMS: एग्जाम कल, वो सब बातें जो जानना है जरूरी

807 सीटों के लिए होने वाले इस एग्जाम के लिए देशभर में 171 सेंटर्स बनाए गए है जिसमें 2 लाख से ज्यादा स्टूडेंट्स शामिल होंगे।

एजुकेशन डेस्क। ऑल इंडिया इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज (AIIMS) में एमबीबीएस कोर्स के लिए एग्जाम 26 और 27 मई को होंगे। इस एग्जाम के जरिए AIIMS की 807 सीटों पर एडमिशन दिया जाएगा। जिसमें लगभग 2 लाख से ज्यादा कैंडिडेट्स शामिल होंगे। एग्जाम शुरू होने में अब बस कुछ ही घंटे बाकी रह गए हैं इसलिए bhaskareducation.com अपने रीडर्स को AIIMS एग्जाम से जुड़ी हर वो बात बताने जा रहा है जिसे जानना हर कैंडिडेट के लिए जरूरी है।

एग्जाम पैटर्न

सब्जेक्ट

फिजिक्स (60 क्वेश्चन) ,केमेस्ट्री (60 क्वेश्चन),बायोलॉजी (60 क्वेश्चन),जनरल नॉलेज (20 क्वेश्चन)
टोटल क्वेश्चन: (200 क्वेश्चन)

एग्जाम ड्यूरेशन

3 घंटे 30 मिनिट

मार्किंग स्कीम

सही आंसर: 1 मार्क्स
गलत आंसर: 1/3 माइनस मार्क्स
आंसर न देने पर:  कोई मार्क्स नहीं

एग्जाम मोड

ऑनलाइन

सिलेबस

11वीं व 12वीं के एनसीआरटी के बुक्स की फिजिक्स, केमेस्ट्री, बायोलॉजी।

 

कहां है कितनी सीटें 

- दिल्ली एम्स में 107 के साथ बाकी एम्स में 100-100 सीटें जबकि गुंटूर और नागपुर में 50-50 सीटें हैं। जिसमें से 400 सीटें जनरल कैटेगरी के लिए हैं। 
- एम्स की एग्जाम पूरे देशभर की विज्ञान वर्ग में ली जाने वाली एग्जामओं में सबसे प्रतिष्ठित एग्जाम मानी जाती है। पूरे देशभर से 2 लाख विद्यार्थी इस एग्जाम में शामिल होते हैं, जबकि सीटें केवल 807 हैं। 

ऐसे भरी जाएंगी सीटें 

- ये सभी सीटें इंटर कंबर्टेबल हैं अर्थात ओपन राउंड में विभिन्न वर्गों के लिए आरक्षित सीटों पर योग्य उम्मीदवार नहीं मिलने पर ये सीटें सामान्य वर्ग को स्थानांतरित कर दी जाती है।
- एम्स-2018 का एग्जाम परिणाम 18 जून को घोषित होगा। 2017 में ऑल इंडिया रैंक 1500 तक के स्टूडेंट्स को एम्स में एडमिशन मिला था। 
- प्रत्येक साल की स्थिति को देखते हुए 2018 में ऑल इंडिया रैंक 1300-1400 तक के स्टूडेंट्स को एम्स में एडमिशन मिलने की संभावना है। 

एम्स की तैयारी से संबंधित मुख्य बिंदु 

- एम्स में 60 असेरशन रीज़न, 20 जीके और मेंटल एबिलिटी के प्रश्न भी पूछे जाते हैं। वर्ष 2015 तक जहां जीके में से पूरे 20 प्रश्न पूछे जाते थे वहीं वर्ष 2016 व 2017 में 14 प्रश्न जीके से पूछे जाते हैं और 6 प्रश्न मेंटल एबिलिटी से पूछे जाते हैं।
- विद्यार्थी अपनी तैयारी में इस प्रकार के प्रश्नों की प्रेक्टिस करें साथ ही  फिजिक्स, केमिस्ट्री और बॉयोलाजी की एनसीईआरटी बहुत अच्छे से टिप्स पर रखें, तो एम्स में निश्चित रूप से अच्छे रैंक पर सलेक्शन होगा।
- एम्स में फिजिक्स, कैमिस्ट्री और बॉयोलाजी सभी के 60-60 प्रश्न पूछे जाते है। अतः नीट की तुलना में यहां फिजिक्स और केमिस्ट्री का वेटेज ज्यादा है। जिनकी इन सब्जेक्ट पर पकड़ मजबूत है उनके चयन की संभावनाएं अधिक है। 

एम्स दिल्ली के लिए संभावित कट-ऑफ

- जिसके लिए स्टूडेंट को विभिन्न सब्जेक्ट्स में लगभग इन अंकों की आवश्यकता है। 
- अन्य एम्स के लिए संभावित कट आॅफ अंक: जिसके लिए स्टूडेंट को विभिन्न सब्जेक्ट्स में लगभग इन अंक की आवश्यकता है।

AIIMS ने स्टूडेंट्स को दी ये सलाह

- इंस्टीट्यूट ने स्टूडेंट्स को सलाह दी है कि एग्जाम के लिए एडमिट कार्ड ऑफिशियल वेबसाइट से डाउनलोड करें और एग्जाम डेट, सेंटर और टाइम जरूर चेक करें।
- इसके साथ ही स्टूडेंट्स और उनके माता-पिता एग्जाम से पहले ही सेंटर पर विजिट करें और लोकेशन व समय पर पहुंचने के लिए पहले ही साधनों का पता कर लें।

AIIMS ने जारी की ये गाइडलाइंस

- AIIMS ने साफ किया है कि एडमिड कार्ड में जो रिपोर्टिंग टाइम दिया है, उसी के अनुसार सेंटर्स पर रिपोर्ट करें। रिपोर्टिंग टाइम क्लोज होने के बाद किसी भी स्टूडेंट्स को एंट्री नहीं दी जाएगी।
- फिजिकल डिसएबिलिटी वाले कैंडिडेट्स एग्जाम सेंटर्स पर जल्दी रिपोर्ट करें।
- कैंडिडेट्स को अपने साथ एडमिट कार्ड और वैलिड फोटो आईडी प्रूफ की ओरिजनल कॉपी ही ले जानी है। 
- हालांकि एग्जाम के लिए AIIMS ने किसी तरह का ड्रेस कोड जारी नहीं किया है, लेकिन क्लिप, बैंड, हैट, कैप, स्कार्फ, गॉगल, थिक सोल फुटवियर और बड़ी बटन वाली शर्ट-टीशर्ट पहनकर आने पर मनाही है।
- साथ ही किसी भी तरह की जूलरी पहनने पर पाबंदी है। इसके अलावा मोबाइल फोन, रिस्टवॉच या कोई भी इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस लाना है। इसके साथ ही पेन, पेपर, बुक, बॉटल आदि लाने पर भी पाबंदी है।

ऐसे करें एडमिट कार्ड डाउनलोड

- ऑफिशियल वेबसाइट aiimsexam.org पर लॉग ऑन करें।
- 'एम्स एमबीबीएस एडमिट कार्ड 2018' लिंक पर क्लिक करें।
- अपना आईडी और पासवर्ड डालकर लॉग इन बटन पर क्लिक करें।
- इतना करते ही एडमिट कार्ड ओपन हो जाएगा।

दो शिफ्ट में होगा एग्जाम

- एम्स एमबीबीएस 2018 की प्रवेश परीक्षा ऑनलाइन आयोजित की जाएगी, कंप्यूटर आधारित टेस्ट (सीबीटी) के रूप में यह एग्जाम लिया जाएगा। एग्जाम 27 और 28 मई को एम्स द्वारा लिया जाएगा। 
- एग्जाम को दो शिफ्ट में रखा गया है। मॉर्निंग शिफ्ट 9:00 से 12:30 बजे और दोपहर शिफ्ट 3:00 से शाम 6:30 बजे की है। एम्स परीक्षा देश भर के 171 सेंटर्स में आयोजित की जाएगी।

एग्जाम के जरिए मिलेगा एडमिशन

- मेडिकल के छात्रों के लिए एम्स हर साल ऑल इंडिया लेवल पर MBBS कोर्स एंट्रेंस एग्‍जाम कंडक्‍ट करता है। 
- इस एग्जाम से उम्मीदवारों को दिल्ली, पटना, भोपाल, जोधपुर, भुवनेश्वर, ऋषिकेश, रायपुर, गुंटुर और नागपुर कैंपस में एडमिशन दिया जाता है। 

807 सीट्स के लिए होगा एग्जाम

- एम्स एमबीबीएस 2018 प्रवेश परीक्षा के लिए उम्मीदवारों को नौ अलग-अलग एम्स संस्थानों में 807 सीटों के लिए एग्जाम लिया जा रहा है।

कॉलेज सीट्स
एम्स दिल्ली 107
एम्स भोपाल 100
एम्स भुवनेश्वर 100
एम्स जोधपुर 100
एम्स पटना 100
एम्स रायपुर 100
एम्स ऋषिकेश 100
एम्स नागपुर 50
एम्स गुंटूर 50

 

कितनी है आरक्षित सीटें

- एम्स में सामान्य वर्ग के लिए 400, अन्य पिछड़ा वर्ग के लिए 215, एससी वर्ग के लिए 119, एसटी वर्ग के लिए 64 तथा पीएच वर्ग के लिए 40 सीटें आरक्षित है हालांकि ओपन राउंड में यह सभी सीटें इंटर कंवर्टेबल है यानी कि एससी, एसटी व ओबीसी वर्ग की सीटों पर योग्य उम्मीदवार नहीं मिलने पर सामान्य वर्ग को स्थानांतरित कर दी जाती है।

नोटिफिकेशन देखने के लिए यहां क्लिक करें

Next News

NEET: आंसर-की हुई अपलोड, 27 मई तक करें चैलेंज, यह है प्रोसेस

कैंडिडेट्स आंसर-की को ऑनलाइन चैलेंज कर सकते हैं। इसके लिए उन्हें हर आंसर पर 1000 रुपए फीस देनी होगी।

AIIMS: फिजिक्स ने किया परेशान, केमेस्ट्री-बायोलॉजी रही स्कोरिंग

इस साल एमबीबीएस की 807 सीटों के लिए 2 लाख से ज्यादा स्टूडेंट्स नें एग्जाम दिया जिसके लिए देशभर में 171 सेंटर्स बनाए गए थे।

Array ( )