इतिहास में आज (9/1/2019) / 36 साल पहले भारतीय वैज्ञानिकों का पहला दल अंटार्कटिक पहुंचा था

लौटते हुए दल ने एक पर्वत भी खोज लिया था

1982- आज ही के दिन (9/1/2019) भारतीय वैज्ञानिकों का दल पहली बार अंटार्कटिक महाद्वीप पहुंचा था। उस दल में 21 सदस्य थे। अंटार्कटिक में दल का सामना तेज तूफानी बर्फीली हवाओं से हुआ। इस दल ने अंटार्कटिक से लौ टते समय एक समुद्री पर्वत को भी खोजा था। इसका नाम ‘इंदिरा’ रखा गया था। तब से भारत ध्रुवीय विज्ञान में अग्रिम मोर्चे पर रहा है। ये दल 21 फरवरी को देश लौटा था। तब से भारत ध्रुवीय विज्ञान में अग्रिम मोर्चे पर रहा है। दक्षिण गंगोत्री और मैत्री अनुसंधान केन्द्र स्थित भारतीय अनुसंधान केन्द्र में उपलब्ध मूलभूत आधार में वैज्ञानिकों को विभिन्न वि‍षयों यथा वातावरणीय विज्ञान, जैविक विज्ञान और पर्यावरणीय विज्ञान के क्षेत्र में अग्रणी अनुसंधान करने में सक्षम बनाया। इनमे से कई अनुसंधान कार्यक्रमों में अंटार्कटि‍क अनुसंधान संबंधी वैज्ञानिक समिति (एससीएआर) के
तत्वावधान में सीधे वैश्विक परिक्षणों में योगदान किया है। अंटार्कटि‍क वातावरणीय विज्ञान कार्यक्रम में कई वैज्ञानिक संगठन भाग ले चुके हैं।

खास : अंटार्कटिक 140 लाख वर्गकिमी में फैला है। क्षेत्रफल में ये एशिया, अफ्रीका, उत्तरी और दक्षिणी अमेरिका के बाद पांचवां बड़ा महाद्वीप है। 98% भाग पर औसतन 1.6 किमी मोटी बर्फ की परत है।

Next News

GK Series-12 / कॉम्पिटेटिव एग्जाम में पूछे गए 60 महत्वपूर्ण सवाल

यह सवाल जो कॉम्पिटेटिव एग्जाम में स्टूडेंट्स को प्रिपरेशन में मदद करेंगे।

इतिहास में आज (10/1/2019) / 156 साल पहले ब्रिटेन की राजधानी लंदन में दुनिया की पहली भूमिगत ट्रेन सेवा शुरू हुई

भूमिगत ट्रेन को आज मेट्रो, सब वे या रैपिड ट्रेन के नाम से भी जाना जाता है

Array ( )