इतिहास में आज (07/12/2018) / 30 साल पहले आर्मीनिया में भूकंप से 25 हजार लोगों की मौत हुई थी, एक लाख लोग बेघर हुए थे

भूकंप के झटके स्पिटक और ग्यूम्री शहरों में लगे थे। दोनों ही शहर भूकंप के जोन हैं।

1988 - आज ही के दिन (07/12/2018) आर्मीनिया में 6.9 तीव्रता का भूकंप आया था। इसमें 25 हजार लोगों की मौत हो गई थी। करीब एक लाख लोग बेघर हो गए थे। भूकंप के झटके स्पिटक और ग्यूम्री शहरों में लगे थे। दोनों ही शहर भूकंप के जोन हैं। स्पिटक में 1989 और ग्यूम्री में इस साल जून में भी भूकंप आ चुका है। वैसे पूरा आर्मीनिया दुनिया के खतरनाक भूकंप क्षेत्र में गिना जाता है। इसका असर यहां के न्यूक्लियर मेत्सामोर न्यूक्लियर प्लांट्स पर भी हुआ है। ये प्लांट्स कॉकासस सिटी में हैं। वर्ल्ड न्यूक्लियर एसोसिएशन की 2011 की रिपोर्टमें यहां के न्यूक्लियर प्लांट्स को सबसे खतरनाक बताया गया था। भूकंप और न्यूक्लियर प्लांट्स के खतरों के कारण अब तक कई लोग कॉकासस सिटी छोड़ चुके हैं। आर्मीनिया पहाड़ी देश है। यह 23 अगस्त 1990 को सोवियंत संघ से आजाद हुआ था। देश के तौर पर अंतरराष्ट्रीय मान्यता 25 दिसंबर 1990 को मिली। 

खास : ईसा पूर्व 300 में आर्मीनिया की आरामाईक लिपि का इस्तेमाल भारत में भी होता था। आर्मीनिया में मुसलमानों और ईसाइयों के बीच कई युद्ध हुए।

Next News

इतिहास में अाज (10/12/2018) / 55 साल पहले जांजीबार ब्रिटेन से आजाद हुआ था, यह अब तंजानिया का हिस्सा बन चुका है

जांजीबार पूर्वी अफ्रीका के यूनाइटेड रिपब्लिक ऑफ तंजानिया का हिस्सा था। 

Array ( )