इतिहास में आज (28/01/2019) / 21 साल पहले पूर्वप्रधानमंत्री राजीव गांधी के 26 हत्यारों को फांसी की सजा सुनाई गई थी

इस मामले में 24 मई 1991 को सीबीआई की स्पेशल टीम ने केस दर्ज किया

1998- आज ही के दिन (28/01/2019) पूर्वप्रधानमंत्री राजीव गांधी की हत्या के दोषी रॉबर्ट पायस, जयकुमार, रविचंद्रन और नलिनी के साथ संतन, पेरारिवलन समेत 26 लोगों को सजा-ए-मौत सुनाई गई थी। दरअसल, लिट्टेप्रमुख प्रभाकरण के कहने पर श्रीलंका से आए कुछ हमलावरो ने तमिलनाडु के श्रीपेरुम्बदूर में राजीव गांधी की 21 मई 1991 को एक चुनावी रैली में आत्मघाती हमला कर हत्या कर दी थी। इस मामले में 24 मई 1991 को सीबीआई की स्पेशल टीम ने केस दर्ज किया। घटनास्थल पर मिले सबूतों में एक कैमरा और उसकी तस्वीरें भी थीं। जांच के दौरान करीब 100 लिट्टे समर्थकों ने साइनाइड खाकर जान दी थी। हत्याकांड का मास्टरमाइंड सिवरासन भी जान देने वालों में शामिल था। सीबीआई ने 26 लोगों पर मुकदमा चलाया। अदालत का फैसला आने के बाद इन दोषियों ने दया याचिकाएं भेजीं। जिसके बाद कइयों की मौत की सजा को उम्रकैद में तब्दील कर दिया गया था।

खास : लंबी कानूनी लड़ाई से हत्यारे पेरारिवलन की मां अयपुथम्मल हताश हो चुकी है। उन्होंने वेल्लोर जिला में बीते साल कहा था- हम अब और जीना नहीं चाहते हैं।
 

Next News

जड़ों से मेरा जुड़ाव ही मेरे काम को निखारता है - भूमि पेडनेकर

पहली ही फिल्म के लिए कई अवॉर्ड जीतने वाली यह अभिनेत्री अभी-भी खुद को स्ट्रगलर ही मानती हैं

सफलता को सेलिब्रेट करने के लिए प्रैक्टिस करती हूं : मनु भाकर

महज 16 साल की मनु यूथ ओलिंपिक्स में गोल्ड जीतने और रिकॉर्ड बनाने वाली पहली भारतीय शूटर हैं

Array ( )